ज़िंदगी की नयी परिभाषा बताई स्वामी विवेकानंद जी ने ।

ज़िंदगी की नयी परिभाषा बताई स्वामी विवेकानंद जी ने ।

स्वामी विवेका नन्द जी ने  भारतीय विचार और संस्कर्ति की सुगंध विदेशो तक बिखेरी है  ।

इनका पूरा नाम नरेंद्रनाथ विश्वनाथ दत्त था इनका जन्म 12 जनवरी 1863 में हुआ था  ।

स्वामी विवेकानंद जी के पिता का नाम विश्वनाथ दत्त और माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था  ।

इनके गुरु का नाम रामकृष्ण परमहंस था  ।

दोस्तों  स्वामी विवेकानद  एक महापुरुष थे ।

ये  तेजस्वी  प्रतिभा के  व्यक्ति थे और इनके विचार भी बहुत अनमोल  है ।

 उन्होंने कहा है की शिक्षा ऐसी हो जिससे बालक के चरित्र का निर्माण हो, मन का विकास हो, बुद्धि विकसित हो तथा बालक आत्मनिर्भर बने।

स्वामी जी ने बालक एवं बालिकाओं दोनों को समान शिक्षा के अधिकार पर बल दिया है ।

स्वामी विवेकानंद जी बहुत ही विद्वान थे वे कहते थे हमे खुद को कमज़ोर नहीं समझना चाहिए खुद को कमज़ोर समझेंगे तो हमारी हार इसी पल हो जाएगी ।

 दोस्तों स्वामी विकेकानंद जी हमारे देश के महापुरषो में से एक थे. स्वामी जी ने हमारे देश की उन्नति में बहुत महत्वपूर्ण योगदान दिया है हमे इनके दिए उपदेशो से सिख लेनी चाहिए  ।

Please follow and like us:
Facebook
Facebook
Twitter
Follow by Email
RSS
YOUTUBE
PINTEREST
LINKEDIN
INSTAGRAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares