अनुच्छेद 370 खत्म होते ही जुडऩे लगी रिश्ते की डोर, पुनीत लाने जा रहे हैं पुलवामा से दुल्हन

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद पुलवामा से पहली दुल्हन कानपुर आ रही हैै। बुधवार को उनकी सगाई भी हो गई। कश्मीर में नई इबारत लिखे जाने के बाद मर्चेंट नेवी में काम कर रहे पुनीत शादी के बाद जब चाहे जम्मू-कश्मीर में घर बना सकेंगे। उनकी पत्नी की नागरिकता पर कोई संकट नहीं आएगा।

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 लागू रहने तक वहां की लड़कियां दूसरे राज्यों में शादी करते ही राज्य की नागरिकता और पैतृक संपत्ति में हिस्सा खो देती थीं। अब हालात अलग हैैं। इसी कारण गोविंद नगर के ब्लॉक नंबर 4 में रहने वाले मोटर पाट्र्स कारोबारी अमरजीत सिंह अपने बेटे पुनीत सिंह सेठी का कश्मीर से रिश्ता जोडऩे जा रहे हैैं। पुनीत मर्चेंट नेवी में हैं।

पुनीत बताते हैं कि जनवरी में वेबपोर्टल के जरिये सिमरन कौर से संपर्क हुआ। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा की सिमरन देहरादून के एक इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ाती हैैं। पहले अनुच्छेद 370 की शर्तों के कारण शादी मुश्किल लगी पर दोस्ती चालू रही। मार्च से अगस्त तक जहाज पर रहा। इसी बीच अनुच्छेद 370 खत्म हो गया। 23 अगस्त को लौटते ही मिलना तय हुआ। सिमरन कश्मीर में कफ्र्यू के बावजूद देहरादून पहुंचीं। पहली मुलाकात में शादी का फैसला हो गया। बुधवार को सिमरन का परिवार कानपुर आया और धूमधाम से सगाई हो गई। पुनीत के मुताबिक शादी की तारीख जल्द तय होगी। बरात श्रीनगर जाएगी।