अब कांपेगे चीन और पाकिस्तान, मोदी सरकार ने इतना बढ़ा दिया रक्षा बजट

पैसे की कमी से जूझ रही तीनों सेनाओं को इस बार भी बजट से निराशा ही हाथ लगी है। सरकार ने वर्ष 2020-21 के बजट में रक्षा क्षेत्र के लिए 3.37 लाख करोड़ का आवंटन किया है जो पिछली बार से 6 फीसदी ही अधिक है।
पैसे की कमी से जूझ रही तीनों सेनाओं को इस बार भी बजट से निराशा ही हाथ लगी है। सरकार ने वर्ष 2020-21 के बजट में रक्षा क्षेत्र के लिए 3.37 लाख करोड़ का आवंटन किया है जो पिछली बार से 6 फीसदी ही अधिक है। पिछले वर्ष के बजट में रक्षा क्षेत्र के लिए 3.18 लाख करोड़ रूपये की राशि आवंटित की गयी थी।वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा आज लोकसभा में पेश बजट में रक्षा क्षेत्र के लिए 3.37 लाख करोड़ रूपये का आवंटन किया गया है। पिछले वर्ष के संशोधित अनुमान 3.31 लाख करोड़ से यदि तुलना की जाती है तो यह बढोतरी केवल 2 फीसदी ही रह जाती है।बजट में अपेक्षानुसार बढोतरी नहीं किये जाने से तीनों सेनाओं के आधुनिकीकरण की योजनाओं पर असर पड़ सकता है। बजट में आधुनिकीकरण के लिए पूंजीगत व्यय मद में 1.13 लाख करोड़ रूपये रखे गये हैं। पेंशन के मद में आवंटित राशि को जोडऩे पर कुल राशि 4.71 लाख करोड़ हो जाती है जबकि पिछली बार संशोधित अनुमान में यह 4.3 लाख करोड़ रूपये थी।