अमित शाह ने यह कहकर जनता के मन में विश्वास जगाया कि हिंदुस्तान की हो सकती है 21वीं सदी

दिल्ली में ऑल इंडिया मैनेजमेंट कनवेंशन में होम मिनिस्टर व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने बोला आज इत्तेफाक ही है कि जिस दिन मैं एआईएमए के 46वें कनवेंशन प्रोग्राम में आया हूं उसी दिन पीएम नरेन्द्र मोदी जी का जन्मदिन है. सभी देशवासियों के लिए मोदी जी का जन्मदिन खास व शुभ इसलिए है कि उन्होंने जनता के मन में विश्वास जगाया है कि 21वीं सदी हिंदुस्तान की हो सकती है.

अमित शाह ने बोला कि घपले, घोटाले व करप्शन से मुक्ति मिली है. उन्होंने बोला कि 2013 में बड़े-बड़े घोटाले सामने आते थे. सरकार थी उसमें हर कोई पीएम था व सरकार को लकवा मार गया था. उन्होंने बोला कि लोगों को क्या अच्छा लगेगा यह सोचकर निर्णय नहीं लिया बल्कि जनता के लिए क्या अच्छा है यह सोचकर निर्णय लिया.

शाह ने बोला कि न्यू इंडिया की कल्पना में ही महान हिंदुस्तान की कल्पना समाहित है. ये कल्पना मोदी जी ने 130 करोड़ हिंदुस्तानियों के सामने रखी. एक आदमी शायद कुछ न कर सके लेकिन 130 करोड़ लोग एक-एक कदम आगे बढ़ा ले तो देश 130 करोड़ कदम आगे बढ़ जाता है. कोई सरकार 30 वर्ष चलती है तो पांच बड़े निर्णय ले पाती है, लेकिन मोदी जी की जो सरकार पांच वर्ष चली इसने 50 से ज्यादा बड़े निर्णय लेकर देश को परिवर्तित करने का कार्य किया है. एक निर्णायक सरकार देने का कार्य पीएम नरेन्द्र मोदी जी ने किया है.

उन्होंने बोला कि हमारे संविधान निर्माताओं का उद्देश्य था कि देश के सभी लोगों को अपने अधिकार मिलें, सभी का ज़िंदगी उन्नत हो व सबको समान मौके मिले लेकिन आजादी के 70 वर्ष के बाद की व्यवस्थाओं के कारण देश के सभी लोगों के मन में ये सवाल उठ गया था कि बहु-पार्टी लोकतांत्रित सिस्टम कहीं फेल तो नहीं हो रहा, लोगों में घोर निराशा थी.