आज कल मोहब्बत पर भरोसा नहीं रहा साहब.. पढें एक से बढ़कर एक शायरी

दोस्तों इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में अक्सर लोग तनाव में रहते हैं। यहां हम आपके लिए हर रोज़ एक से बढ़कर एक शायरी और मजेदार जोक्स लेकर आते हैं। इस आर्टिकल में आपके लिए आज कुछ बेहतरीन शायरी लेकर आए हैं जिसे पढ़कर आप अच्छा महसूस करेंगे।

1.कोई मरहम नही चाहिए जख़्म मिटाने के लिए क्योंकि उनके द्वारा दिए गए जख्म ही हमारे पास उनकी आखिरी निशानी है।

2.लोग नए साल में बहुत कुछ नया मांगेंगे। लेकिन हमें आपका वही पुराना वाला प्यार चाहिए।

3.जीते थे हम कभी शान से

महक उठी थी जिंदगी किसी के नाम से

मगर फिर गुजरे ऐसे मकाम से की नफरत सी हो गई मोहब्बत के नाम से।

4.तुम पर भी यकीन है

और मौत पर भी एतबार है

देखते हैं पहले कौन मिलता है

हमें दोनों का इंतजार है

5.सुबह उदास होगी शाम उदास

सफेद चादर में लीप्ती हुई मेरी लाश होगी

ये दफनाने वाला मुझे वहां दफनाना

जहां मेरी जान से मुलाकात होगी

6.आज कल मोहब्बत पर भरोसा नहीं रहा साहब

कहने को दिल तो छोटा होता है मगर रहते कई लोग हैं

7.अब तो वो होगा.. जो दिल फरमयेगा बाद मैं वो होगा

वो तो देखा जायेगा

8.चम चम करती चांदनी टिम टिम करते तारे,

10 के साथ घूम के आ रही और कहती है बाबू हम सिर्फ तुम्हारे

9.आप खुद नहीं जानती आप कितनी प्यारी हो,

जान हो हमारी पर जान से प्यारी हो,

दूरियों क होने से कोई फर्क नही पड़ता

आप कल भी हमारी थी और आज बी हमारी हो…

10.अपने अपने किये पे हैं

हम दोनों इतने शर्मिंदा;

दिल हम से कतराता है

और हम दिल से कतराते हैं

11.एक मुद्दत से मेरे हाल से बेगाना है;

जाने ज़ालिम ने किस बात का बुरा माना है;

मैं जो ज़िद्दी हूँ तो वो भी है अना का कैदी;

मेरे कहने पे कहाँ उसने चले आना है