इंतजार खत्म! चंद घंटे में आ जाएगा कोरोना वायरस का वैक्सीन ये है लेटेस्ट अपडेट

देश में कोरोना वायरस संक्रमण के एक दिन में सामने आने वाले मरीजों की संख्या में कमी आई है और मंगलवार को यह आंकड़ा 53,601 रहा. देश में पिछले चार दिन से लगातार 60,000 से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे आज सामने आए 53,601 नए मरीजों के बाद देश में संक्रमितों की कुल संख्या भारत में 22,68,675 हो गई है. इधर कोरोना वायरस वैक्सीन के लिए इंतजार खत्म होता दिख रहा है.

बुधवार को रूस दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन को मंजूरी देगा़ रूस के उप स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि देश 12 अगस्त को इस वैक्सीन को रजिस्टर करेगा. रूस में अक्तूबर से यह वैक्सीन सभी लोगों को दी जायेगी, ताकि कोविड-19 के खिलाफ रोग प्रतिरोधक क्षमता हासिल हो सके. रूसी मीडिया के मुताबिक इस वैक्सीन से किसी तरह के नुकसान के संकेत नहीं मिले हैं. इसका बड़े पैमाने पर उत्पादन सितंबर से शुरू होगा.

डब्ल्यूएचओ समेत दूसरे देशों को वैक्सीन पर शक : रूस ने दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन तैयार करने का दावा तो किया है, लेकिन कई लोगों ने इस पर सवाल उठाये हैं. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन ने कहा था कि उन्हें रूसी वैक्सीन से जुड़ी कोई आधिकारिक डेटा या जानकारी नहीं मुहैया करायी गयी है.

क्लिनिकल ट्रायल में 100 प्रतिशत रहा सफल :यह वैक्सीन क्लिनिकल ट्रायल में 100 प्रतिशत सफल रही. इसको रूस के रक्षा मंत्रालय व गमलेया नेशनल सेंटर फॉर रिसर्च ने तैयार किया है. क्लिनिकल ट्रायल में जिन लोगों को यह वैक्सीन लगायी गयी, उन सभी में रोग प्रतिरोधक क्षमता पायी गयी.

मौसम के हिसाब से नहीं चलता कोरोना :डब्ल्यूएचओ : डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि कोरोना अन्य वायरस की तरह मौसम के हिसाब से नहीं चलता़ इन्फ्लुएंजा जैसे वायरस संक्रमण जहां मुख्य रूप से सर्दी में होते हैं, वहीं कोरोना गर्मियों में भी प्रकोप दिखा रही है. वहीं, दुनिया में संक्रमित लोगों की संख्या दो करोड़ की संख्या को पार कर गयी़.

ऑक्सफोर्ड का टीका : दुनिया में कोरोना वैक्सीन का पहला ट्रायल ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड में शुरू हुआ था. ह्यूमन ट्रायल कामयाब रहा है. सब ठीक रहा तो कुछ ही दिनों में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की रिसर्च पर कोरोना की एक और कारगर वैक्सीन दुनिया के समक्ष होगी. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया इसे ‘कोविशील्ड’ नाम से लांच करेगी.

स्वदेशी कोवैक्सीन : आइसीएमआर के सहयोग से भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड द्वारा तैयार कोरोना का स्वदेशी टीका कोवैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल जारी है. ट्रायल के लिए एम्स समेत 12 संस्थानों का चयन किया है. भारत बायोटेक ने वैक्सीन की कोई समय-सीमा तय नहीं की है. सब ठीक रहा तो अगले साल तक वैक्सीन आ सकती है

अमेरिका में दो वैक्सीन : अमेरिकी बॉयोटेक्नॉलॉजी कंपनी मॉडर्ना थेराप्युटिक्स एमआरएनए -1273 वैक्सीन पर काम कर रही है. इस वैक्सीन के दो क्लीनिकल ट्रायल पूरे हो चुके हैं. वहीं, एक अन्य अमेरिकी कंपनी इनोवियो फार्मास्युटिकल्स आइएनओ -4800 वैक्सीन पर काम कर रही है़ इसके पहले फेज के नतीजे सकारात्मक रहे हैं.

चीन में दो वैक्सीन : चीनी बॉयोटेक कंपनी कैंसिनो बॉयोलॉजिक्स द्वारा तैयार की जा रही वैक्सीन एडी 5-एन कोवि का तीसरा ट्रायल पूरा हो चुका है़ वहीं, चीन के ही शेंजेन जीनोइम्यून मेडिकल इंस्टीट्यूट में एक और ह्यूमन वैक्सीन एलवी-एसएमइएनपी -डीसी वैक्सीन का परीक्षण चल रहा है.

देश में ठीक होनेवाले मरीजों की संख्या 70% : कोरोना के 62,064 नये मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की कुल संख्या 22 लाख को पार कर गयी. ठीक होनेवाले मरीजों की संख्या बढ़ कर 15.35 लाख से अधिक हो गयी है. 24 घंटे में रिकॉर्ड 55 हजार लोग ठीक हुए. इस तरह मरीजों के स्वस्थ होने का दर 70 प्रतिशत तक पहुंच गयी है. देश में मृत्यु दर भी पहले से काफी कम है.