इन कारणों से भी बढ़ सकती है डायबिटीज का खतरा

लोगों के मन में यह धारणा है कि मधुमेह होने के पीछे की वजह अत्यधिक मीठा खाना है। जबकि ऐसा नहीं है, मधुमेह होने के मुख्य कारणों में सिर्फ मीठा ही शामिल नहीं है। बल्कि व्यक्ति की दिनचर्या की कुछ गलतियां भी डायबिटीज होने की वजह बनती हैं। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में-

  • पेंक्रियाज ग्रंथी में इंसुलिन का स्त्राव कम हो जाने के कारण खून में ग्लूकोज स्तर समान्य से अधिक बढ़ जाता है, जिसे डायबिटीज कहा जाता है। इंसुलिन एक हॉर्मोन है, जो पाचन ग्रन्थि द्वारा बनता है और जो भोजन को एनर्जी में बदलने का काम करता है। इसके बिना शरीर शुगर की मात्रा को कंट्रोल नहीं कर पाता, जिससे आप डायबिटीज की चपेट में आज जाते हैं।
  • आपकी लाइफस्टाइल सेहत पर व्यापक प्रभाव डालते हैं। भरपूर डाइट ना लेना, गलत डाइट, पानी ना पीना, एक्सरसाइज ना करना और फिजिकल एक्टिविटीज को लेकर निष्क्रिय रहना जैसी गलत आदतें भी आपको डायबिटीज का मरीज बना देती हैं। ऐसे में अगर इस बीमारी से बचना है तो अपना लाइफस्टाइल सुधारें।
  • सुबह का नाश्ता छोड़ने की भूल गलती से भी न करें। ऐसा करने से टाइप-2 डायबिटीज का खतरा काफी हद तक बढ़ जाता है। दरअसल, सुबह का नाश्ता ना करने से शरीर के अंदर इंसुलिन का रेसिस्टेंस बढ़ जाता है, जिससे मेटाबोलिज्म सिस्टम पर दबाव पड़ने लगता है और इससे शरीर के अंदर डायबिटीज के लक्षण पनपने लगते हैं।
  • स्टडी के अनुसार, विटामिन डी की कमी से शरीर में ब्लड ग्लूकोस का स्तर बढ़ जाता है, जिसे प्री-डायबिटिक माना जाता है। यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें किसी व्यक्ति का हाई ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता लेकिन वह इतना ज्यादा नहीं होता कि उसे डायबिटिक कहा जाएं। मगर धीरे-धीरे ये स्थिति आपको डायबिटीज का शिकार बना देती है।
  • वजन बढ़ना आज के समय में एक आम समस्या है, लेकिन इसके कारण व्यक्ति कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ जाता है, जिसमें से एक है डायबिटीज। शोध के अनुसार, पतले लोगों के मुकाबले मोटे लोगों में इसका खतरा 3 गुणा ज्यादा होता है। इतना ही नहीं, मोटापा हाई ब्लड प्रेशल, हाई कोलेस्ट्रॉल और दिल की बीमारियों का कारण भी बनता है।
  • जी हां, डायबिटीज एक अनुवांशिक रोग है। अगर किसी के माता पिता को डायबिटीज है तो उनके बच्चों को भी मधुमेह होने की सम्भावना ज्यादा होती है। इसके अलावा मानसिक गर्भावस्था में ज्यादा दवाइयों लेने, चाय, दूध, कोल्ड ड्रिंक्स का सेवन और धूम्रपान या तंबाकू से भी इस बीमारी का खतरा बढ़ जाता है।
  • जो लोग दिनभर ऑफिस में कुर्सी पर बैठकर काम करते हैं और बिल्कुल भी व्यायाम नहीं करते उन लोगों में डायबिटीज होने के खतरा 80 प्रतिशत तक बढ़ जाता है।