एयरटेल के Jio से ज्यादा ऐक्टिव मोबाइल यूजर्स : TRAI


भारती एयरटेल ने जून महीने में 3.7 मिलियन ऐक्टिव मोबाइल यूजर्स रहे। कंपनी ने ऐक्टिव मोबाइल यूजर्स के मामले में जियो को पीछे छोड़ दिया। रिलायंस जियो इन्फोकॉम ने जून में 2.1 मिलियन ऐक्टिव सब्सक्राइबर्स खो दिए। वहीं वोडाफोन आइडिया को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है और कंपनी ने 3.7 मिलियन ऐक्टिव यूजर्स गंवाए। टेलिकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी के मोतीलाल ओसवाल ने जून सब्सक्राइबर डेटा को ऐनालाइज करने के दौरान यह जानकारी दी।

एयरटेल का ऐक्टिव मोबाइल यूजर बेस बढ़कर 311 मिलियन हो गया है। जबकि जियो और वोडाफोन क्रमशः 310 मिलियन और 273 मिलियन पर सिमट गए। ट्राई ने एक नोट में कहा, ‘मई में जियो से मात खाने के बाद एयरटेल ने एक बार फिर ऐक्टिव मोबाइल सब्सक्राइबर मार्केट में टॉप नंबर हासिल कर लिया।’

विजिटर लोकेशन रजिस्टर या VLR के जरिए किसी मोबाइल नंबर का इस्तेमाल कर रहे ऐक्टिव सब्सक्राइबर्स की असल संख्या का पता लगता है। लेटेस्ट ट्राई डेटा से पता चला है कि एयरटेल के 98.14 फीसदी यूजर्स ऐक्टिव रहे जबकि Vi के 89.49 और जियो के 78.15 फीसदी यूजर्स ऐक्टिव रहे।

Vi और जियो के ऐक्टिव मोबाइल यूजर्स की संख्या में कमी हुई है। इसके चलते ही जून में भारत के ऐक्टिव मोबाइल सब्सक्राइबर्स बेस 958 मिलियन रहा। मोतीलाल ओसवाल ने कहा कि इंडस्ट्री ने जून में 2.8 मिलियन ऐक्टिव सब्सक्राइबर्स की कमी हुई जिससे ऐक्टिव मोबाइल यूजर्स का आंकड़ 958 मिलियन रहा। मई में ऐक्टिव सब्सक्राइबर्स की संख्या 2.9 मिलियन रही थी।

हालांकि, कुल मिलाकर देखें तो जून में जियो ने करीब 4.5 मिलियन मोबाइल यूजर्स जोड़े। इसी के साथ जियो का कुल यूजर बेस 397 मिलियन पहुंच गया। जियो ग्रामीण भारत में सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी बन गई है और इसने इस सेगमेंट में वोडाफोन आइडिया के वर्चस्व को तोड़ा है। जून में जियो रूरल मोबाइल यूजर बेस 166.34 मिलियन बढ़ा। वहीं Vi का यूजर बेस 166.02 मिलियन रहा।

बात करें एयरटेल और वोडाफोन आइडिया के ग्रॉस सब्सक्राइबर बेस का, तो जून में यह क्रमशः 1.12 मिलियन और 4.82 मिलियन कम हुआ।