करनी है दिलचस्प यात्रा, तो जरूर देखें भारत का आखिरी गांव, भूल नहीं पाएंगे यहां के नजारें

घूमने फिरने के शौकीन लोगों को आज हम बताने जा रहे हैं उत्तराखंड की एक अनोखी जगह के बारे में जहां के नजारे बहुत ही खूबसूरत हैं। सबसे खास बात तो ये है कि यहां आप अपने बजट में यात्रा कर सकते हैं। जी हां..इस जगह को भारत का अंतिम गांव भी कहा जाता है।

बता दें समुद्र तल से 18,000 फुट की ऊंचाई पर बसे इस गांव का नाम माणा है। यहां की मनमोहक वादियां, गंगा घाट, गंगा आरती, योग रिट्रीट और शांतिप्रिय आश्रम दुनिया भर में मशहूर है जिन्हें देखने के लिए देसी ही नहीं बल्कि विदेशी भी बेताब रहते हैं। बद्रीनाथ से तीन किमी की दूरी पर बसे इस गांव के आसपास कई दर्शनीय स्थल हैं। यहां पर सरस्वती और अलकनंदा नदियों का संगम होता है।

माणा में एक चाय की दुकान है जो बहुत मशहूर है। दरअसल यहां ‘भारत की आखिरी चाय की दुकान’ है। दूर-दूर से आए लोग इस दुकान के सामने खड़े होकर फोटो खींचवाते हैं। इस गांव से आगे कोई रास्ता नहीं जाता। थोड़ा आगे भारतीय सेना का कैंप है। यहां ठंड के दिनों में बेहद ही अद्भुत नजारे देखने को मिलते हैं।

कहा जाता है कि छह महीने तो ये जगह पूरी बर्फ से ही ढकी रहती है, जिस वजह से यहां रहने वाले लोग सर्दी शुरू होने से पहले नीचे स्थित चामोली जिले चले जाते हैं। यहां दुनिया का एक मात्र ऐसा कॉलेज है जो छह महीने चामोली में चलता है और छह महीने माणा में चलता है।