क्या आप जानते हैं गणतंत्र दिवस से जुड़े ये रोचक तथ्य नहीं, तो जरूर पढ़ें

क्या आपको पता है कि गणतंत्र दिवस की शुरुआती परेड राजपथ पर नहीं हुआ करती थीं? आज आपको बताते हैं परेड से जुड़े कुछ रोचक तथ्य।

1. गणतंत्र दिवस की भव्य परेड देखने के लिए 26 जनवरी के मौके पर राजपथ से लेकर लाल किले तक के परेड मार्ग पर प्रत्येक वर्ष दो लाख से ज्यादा लोगों की भीड़ जुटती है। इसमें राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री से लेकर आम और खास सभी शामिल होते हैं।

2. केंद्र सरकार द्वारा इस मौके पर प्रत्येक वर्ष भारत समेत कई राष्ट्रों से अतिथियों को विशेष तौर पर आमंत्रित किया जाता है। खास बात ये है कि भीषण ठंड के बावजूद लोग सुबह चार-पांच बजे से ही परेड देखने के लिए पहुंचने लगते हैं।

3. वर्ष 2015 में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा भी भारत के गणतंत्र दिवस परेड के साक्षी बन चुके हैं। बराक ओबामा अमेरिकन राष्ट्रपति के इतिहास में पहली बार इतने लंबे समय के लिए राजपथ पर खुले आसमान के नीचे होने वाले सार्वजनिक कार्यक्रम में शामिल हुए थे।

4. 26 जनवरी पर गणतंत्र दिवस परेड की शुरूआत 1950 में आजाद भारत का संविधान लागू होने के साथ हुई थी। वर्ष 1950 से 1954 तक गणतंत्र दिवस की परेड राजपथ पर न होकर, चार अलग-अलग जगहों पर हुई थीं। 1950 से 1954 तक गणतंत्र दिवस परेड का आयोजन क्रमशः इरविन स्टेडियम (नेशनल स्टेडियम), किंग्सवे, लाल किला और रामलीला मैदान में हुआ था।

5. 1955 से गणतंत्र दिवस परेड का आयोजन राजपथ पर शुरू किया गया। तब राजपथ को ‘किंग्सवे’ के नाम से जाना जाता था। तभी से राजपथ ही इस आयोजन की स्थाई जगह बन चुका है।

6. गणतंत्र दिवस समारोह में हर साल किसी न किसी देश के प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति या शासक को विशेष अतिथि के तौर पर सरकार द्वारा आमंत्रित किया जाता है। 26 जनवरी 1950 को पहले गणतंत्र दिवस समारोह में इंडोनेशिया के राष्ट्रपति डॉ. सुकर्णो विशेष अतिथि बने थे।

7. 26 जनवरी 1955 में राजपथ पर आयोजित पहले गणतंत्र दिवस समारोह में पाकिस्तान के गवर्नर जनरल मलिक गुलाम मोहम्मद विशेष अतिथि बने थे।

8. गणतंत्र दिवस समारोह की शुरूआत राष्ट्रपति के आगमन के साथ होती है। राष्ट्रपति अपनी विशेष कार से, विशेष घुड़सवार अंगरक्षकों के साथ आते हैं। ये घुड़सवार अंगरक्षक राष्ट्रपति के काफिले में उनकी कार के चारों तरफ चलते हैं।

9. राष्ट्रपति द्वारा ध्वाजारोहण के वक्त उनके ये विशेष घुड़सवार अंगरक्षक समेत वहां मौजूद सभी लोग सावधान की मुद्रा में खड़े होकर तिरंगे को सलामी देते हैं और इसी के साथ राष्ट्रगान की शुरूआत होती है।

10. राष्ट्रगान के दौरान 21 तोपों की सलामी दी जाती है। 21 तोपों की ये सलामी राष्ट्रगान की शुरूआत से शुरू होती है और 52 सेकेंड के राष्ट्रगान के खत्म होने के साथ पूरी हो जाती है।

11. 21 तोपों की सलामी वास्तव में भारतीय सेना की 7 तोपों द्वारा दी जाती है, जिन्हें पौन्डर्स कहा जाता है। प्रत्येक तोप से तीन राउंड फायरिंग होती है। ये तोपें 1941 में बनी थीं और सेना के सभी औपचारिक कार्यक्रमों में इन्हें शामिल करने की परंपरा है।

12. गणतंत्र दिवस की परेड सुबह करीब नौ बजे ध्वाजारोहण के बाद शुरू होती है, लेकिन परेड में शामिल सभी सैनिक, अर्धसैनिक बल और एनसीसी व स्काउट जैसे विशेष दल सुबह करीब तीन-चार बजे ही राजपथ पर पहुंच जाते हैं।