गाैतम गंभीर बोले- धोनी आपा तो नहीं खोते, लेकिन मैंने 2 बार उनका गुस्सा देखा

 भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी अपने शांत स्वभाव के लिए जाने जाते हैं। वह टीम की हार पर भी खिलाड़ियों पर गुस्सा नहीं निकालते। बिना चिल्लाए धोनी विरोधियों को मात देने में सबसे आगे रहते थे। हालांकि कुछ माैकों पर धोनी का गुस्सा भी फैंस को देखने को मिल चुका है। साल 2017 में वह कुलदीप यादव पर गुस्सा हुए थे। पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर और इरफान पठान ने कहा कि यह विकेटकीपर बल्लेबाज पूर्व में कुछ अवसरों पर अंतरराष्ट्रीय मैचों के दौरान आपा खो बैठा था। मिचेल सेंटनर का खुलासा, गुस्सा उतारने के बाद धोनी ने अंपायर से मांगी थी माफी

कही ये बात

गंभीर ने स्टार स्पोर्ट्स के कार्यक्रम क्रिकेट कनेक्टेड में कहा, ‘‘लोग कहते हैं कि उन्होंने कभी उन्हें अपना आपा खोते हुए नहीं देखा लेकिन मैंने दो बार ऐसा देखा है। यह विश्व कप 2007 और एक अन्य विश्व कप की बात है जब हम अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए थे। वह भी इंसान है और उसका प्रतिक्रिया देना स्वाभाविक है। यहां तक कि चेन्नई सुपरकिंग्स की तरफ से किसी के खराब क्षेत्ररक्षण करने या कैच छोड़ने पर उनकी प्रतिक्रिया उचित है। हां वह शांतचित है। वह अन्य कप्तानों की तुलना में बेहद शांतचित है। निश्चित तौर पर मेरी तुलना में बेहद शांतचित है।”

पठान ने भी याद की घटना

आईपीएल 2019 में किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ 19वें ओवर में दीपक चाहर के लगातार दो नोबाल करने पर धोनी गुस्से में थे। इसके बाद जयपुर में तो जब स्क्वायर लेग अंपायर ने नोबाल का फैसला पलट दिया तो वह डग आउट से मैदान पर अंपायर से बहस करने पहुंच गये थे। पूर्व भारतीय आलराउंडर इरफान पठान ने 2006-07 की घटना को याद किया जब अभ्यास के दौरान धोनी आउट दिए जाने पर नाराज हो गये थे। पठान ने कहा, ‘‘हमने वार्म अप के दौरान एक मैच खेला था जिसमें दाएं हाथ के बल्लेबाजों को बायें हाथ से और बाएं हाथ के बल्लेबाजों को दायें हाथ से बल्लेबाजी करनी थी। इसके बाद हमें नेट अभ्यास करना था। वार्म अप के दौरान हमने दो टीमें बनायी। धोनी को आउट दिया गया जबकि उन्हें लगा कि वह आउट नहीं हैं। उन्होंने अपना बल्ला फेंक दिया और ड्रेसिंग रूम में चले गये और अभ्यास के लिये भी देर से आये। इसलिए गुस्सा उन्हें भी आता है।”

ब्रेट ली ने भी दी राय

आस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज ब्रेट ली ने धोनी को अपने खेल से ‘दर्शकों का मनोरंजन करने वाला खिलाड़ी’ करार दिया और कहा कि ऐसे बहुत कम अवसर आये होंगे जबकि उन्होंने अपना आपा खोया होगा। ली ने कहा, ‘‘हम अपने खेल से दर्शकों का मनोरंजन करने वाले खिलाड़ी चाहते हैं और धोनी ऐसा करते हैं। उन्होंने कभी सीमाएं नहीं लांघी। अगर ऐसा हुआ होगा तो ऐसा बहुत कम हुआ होगा। लेकिन हम भी इंसान हैं जैसे गौतम गंभीर ने कहा। ”