गैंगरेप पर गृह मंत्री का विवादित बयान – वह एक डॉक्टर थी, वह पढ़ी लिखी थी..

 हैदराबाद में एक पशु चिकित्सक की हत्या और गैंगरेप मामले में राज्य सरकार के एक मंत्री ने टिप्पणी की है। राज्य में तेलंगाना राष्ट्र समिति की सरकार में गृह मंत्री महमूद अली महमूद ने इस मामले पर विवादित बयान देते हुए कहा कि- ‘वह एक डॉक्टर थी.. वह पढ़ी लिखी थी… क्यों नहीं उसने अपनी बहन को फोन किया? उसे 100 नंबर पर पहले कॉल करना चाहिए था।

गौरतलब है कि गैंगरेप के मामले में हैदराबाद की सायबराबाद थाना पुलिस ने अब तक चार लोगों को गिरफ्तार किया है। इसमें दो गाड़ी के ड्राइवर और एक क्लीनर है। आरोपी की पहचान मोहम्मद पाशा, नवीन, केशावुलु और शिवा के तौर पर हुई है। पुलिस ने कहा है कि पहले इन लोगों ने पीड़िता को किडनैप किया और फिर गैंग रेप किया। बाद में उसे मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने कहा है कि जल्द ही आरोपियों को मीडिया के सामने पेश किया जाएगा।

वहीं राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) 27 वर्षीय पशु चिकित्सक की हत्या का मामला पुलिस के सामने उठाने के लिए एक सदस्य भेज रहा है। एनसीडब्ल्यू की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने ट्वीट किया कि जब तक दोषियों को सजा नहीं मिल जाती तब तक एनसीडब्ल्यू ‘कोई कसर नहीं छोड़ेगा।

सीसीटीवी फुटेज के आधार पर गिरफ्तार किया गया पुलिस के मुताबिक सभी आरोपियों को सीसीटीवी फुटेज के आधार पर गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने कहा है कि हो सकता है कि पीड़िता की स्कूटर को जानबूझ कर पंचर किया गया हो और फिर मदद करने के बहाने रेप किया गया।

उन्होंने बताया कि ‘इसके बाद मैंने 15 मिनट के बाद उसे कॉल किया तब तक उसका मोबाइल स्विच ऑफ हो गया। जब वो घर से जा रही थी तब मैंने देखा था कि उसके मोबाइल में सिर्फ 10 परसेंट चार्जिंग बची थी। तो मुझे लगा कि उसका मोबाइल शायद बंद हो गया होगा। इसके 15 मिनट बाद मैंने फिर से कॉल किया, मोबाइल फिर भी बंद था।