चाणक्य के अनुसार, धनवान बनना चाहते हैं तो भूलकर भी न करें ये काम

आचार्य चाणक्य एक महान विद्वान थे. जिनकी नीतियों पर चल कर कई साम्राज्य स्थापित हुए. उसकी बनाई नीतियां आज के समय में भी बेहद प्रासंगिक हैं. और लोगों के स्वभाव के बारे में भी बताया है. उसने बताया कि धनवान लोगों के पास कुछ चीजें हमेशा रहती हैं. आचार्य चाणक्य ने अपने इस ज्ञान को चाणक्य नीति में (Chanakya Niti) में संकलित किया है. चाणक्य नीति (Chanakya Niti) में आचार्य चाणक्य द्वारा वर्णित नीतियां आज भी प्रासंगिक हैं. आइए जानते हैं आचार्य चाणक्य के अनुसार धनवान बनने के लिए किन कामों को करने से बचना चाहिए ताकि आप अमीर बन सकें और दरिद्रता आपके पास ना फटके…

चाणक्य नीति अपने ग्रन्थ चाणक्य नीति (Chanakya Niti) में एक श्लोक के माध्यम से यह वर्णन किया है कि किस प्रकार के लोगों के घर में दरिद्रता का वास रहता है. ऐसे में अगर आप अमीर बनना चाहते हैं तो इस बातों से परहेज करें….

कुचैलिनं दन्तमलोपधारिणं बह्वाशिनं निष्ठुरभाषिणं च।
सूर्योदये चास्तमिते शयानं विमुञ्चतिश्रीर्यदि चक्रपाणि:।।
-चाणक्य नीति (Chanakya Niti) के इस श्लोक के अनुसार, जो लोग अपने आसपास साफ सफाई नहीं रखते, साफ कपड़े नहीं पहनते और अपने शरीर की साफ-सफाई ठीक से नहीं करते ऐसे लोग हमेशा दरिद्र बने रहते हैं. इन्हें यश भी नहीं मिलता है और लक्ष्मी की कृपा भी नहीं होती. ऐसे में यदि आप धनवान बनना चाहते हैं तो अपने आसपास साफ-सफाई रखें.

-चाणक्य नीति (Chanakya Niti) के अनुसार, घर की तरह की शरीर की गन्दगी साफ करनी भी जरूरी है. सुबह जो व्यक्ति समय से दातून, मंजन नहीं करना मां लक्ष्मी उससे रूठ जाती हैं.

-चाणक्य नीति (Chanakya Niti)के अनुसार, मीठा बोलना एक अच्छी आदत है. लेकिन जो लोग कड़वा बोलते हैं उनके ऊपर मां लक्ष्मी की कृपा नहीं रहती है. अतः वो कंगाल हो जाते हैं.

-चाणक्य नीति (Chanakya Niti)के अनुसार, गोधूली बेला यानी कि शाम के समय जो लोग सोने में बिताते हैं वो भी दरिद्र हो जाते हैं. मां लक्ष्मी उनपर कृपा नहीं करती हैं.