झारखंड चुनाव परिणाम: जीत के बाद JMM नेता हेमंत सोरेन बोले- ‘ये महागठबंधन की जीत’

झारखंड विधानसभा चुनाव के नतीजों में झारखंड मुक्ति मोर्चा ( झामुमो) और कांग्रेस की सरकार बनती दिख रही है। दोनों दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को पछाड़कर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभर रही है।

Hemant Soren

झारखंड विधानसभा चुनाव के नतीजों (jharkhand assembly election result ) में झारखंड मुक्ति मोर्चा ( झामुमो) और कांग्रेस की सरकार बनती दिख रही है। दोनों दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को पछाड़कर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभर रही है। पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जनता का आभार जताया । साथ ही सहयोगियों दलों को शुक्रिया कहा। हेमंत सोरेन ने कहा कि ‘ये महागठबंधन की जीत है।

लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने का दिन

झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन (Jharkhand Mukti Morcha’s Hemant Soren ) ने कहा कि आज का दिन उत्साह का और संकल्प लेने का है। यहां के लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने का दिन है । ये जीत शिबू सोरेन के परिश्रम का दिन है। उन्होंने कहा कि राजद-कांग्रेस ने हमारे साथ मिलकर चुनाव लड़ा इसलिए सोनिया गांधी, राहुल गांधी प्रियंका गांधी और लालू यादव को सहयोग के लिए बधाई दी।

ANI@ANI

Hemant Soren, Jharkhand Mukti Morcha’s (JMM) in Ranchi: I am thankful to the people of Jharkhand for the mandate.

Twitter पर छबि देखें

सरयू राय को मंत्रिमंडल में शामिल करने पर कोई चर्चा नहीं-सोरेन

सरयू राय को अपनी सरकार और कैबिनेट में शामिल किए जाने के सवाल पर हेमंत सोरेन ने कहा कि सरयू राय वरिष्ठ और सुलझे हुए नेता हैं। अभी इस मुद्दे पर कोई चर्चा नहीं हुई है।

हेमंत सोरेन के नेतृत्व वाली झामुमो47 सीटों पर आगे चल रही है, वहीं भाजपा 25 सीटों पर आगे चल रही है। गठबंधन के जीतने पर हेमंत सोरेन मुख्यमंत्री बन सकते हैं।

चुनाव आयोग के मुताबिक, आजसू चार, राजद तीन, झारखंड विकास मोर्चा तीन, भाकपा माले एक सीट और निर्दलीय दो सीटों पर बढ़त बनाए हुए हैं। मुख्यमंत्री रघुबर दास अपने विधानसभा क्षेत्र जमशेदपुर पूर्व से चुनाव हार गए।

रघुबर दास बोले- राज्य में बीजेपी की बनेगी सरकार

झारखंड के मुख्यमंत्री राघुबर दास ने सोमवार सुबह कहा कि भाजपा राज्य की सत्ता में वापस आएगी और शुरुआती रुझानों में प्रतिक्रिया देना जल्दबाजी होगी। दास ने पत्रकारों से बात करते हुए यहां कहा, “मुझे पूरा विश्वास है कि हम जीत रहे हैं और भाजपा के नेतृत्व में राज्य में पुन: सरकार का गठन किया जाएगा।”

जहां भाजपा बैकफुट पर खड़ी है, वहीं कांग्रेस जोर देकर कह रही है कि झारखंड की जीत से यह पता चलता है कि नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) और अनुच्छद 370 पर भाजपा की राष्ट्रीय रिवायत को लोगों ने ठुकरा दिया है। कांग्रेस सचिव प्रणव झा ने कहा, “लोगों ने अनुच्छद 370, सीएए और एनआरसी जैसी राष्ट्रीय रिवयत को छोड़कर स्थानीय मुद्दों के लिए वोट किया है।”

उन्होंने कहा कि राज्य के लोगों ने स्थानीय मुद्दों जैसे मंहगाई और बेरोजगारी पर अपना मत दिया है। किसी बात की प्रतिक्षा नहीं करते हुए और भाजपा को कोई मौका नहीं देते हुए कांग्रेस ने भाजपा की पूर्व सहयोगी झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) से संपर्क किया है। बाबूलाल मरांडी की पार्टी चार सीटों पर आगे चल रही है।