टीम इंडिया में मौका मिलने के बाद शुभमन गिल का बड़ा बयान

भारत के युवा बल्लेबाज शुभमन गिल ने दक्षिण अफ्रीका के साथ होने वाली टेस्ट सीरीज के लिए टीम में शामिल होने पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि सीनियर खिलाड़यिों के साथ खेलना एक अलग अनुभव है और यहां आईपीएल का अनुभव उनके काम आएगा।  हाल ही में संपन्न हुई दलीप ट्राफी में शानदार प्रदर्शन करने वाले 20 वर्षीय शुभमन आईपीएल में कोलकाता नाइटराइडर्स की तरफ से खेलते हैं। उन्हें दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ होने वाली टेस्ट सीरीज के लिए गुरूवार को घोषित भारतीय टेस्ट टीम में शामिल किया गया था। उन्हें अनुभवी ओपनर लोकेश राहुल की जगह मिली है।       

 शुभमन ने क्रिकइंफो को दिये साक्षात्कार में कहा, मुझे लगता है कि मुझे अपने खेल नहीं बल्कि अपने नजरिए में परिवर्तन लाना होगा। अंडर-19 वर्ग में आप अपने तरह के खिलाड़ियों के साथ खेलते हैं लेकिन सीनियर टीम में काफी अनुभवी खिलाड़ियों के बीच खेलना पड़ता है। मैं इस स्तर पर अंडर-19 की मानसिकता के साथ नहीं खेल सकता। 125 की स्पीड से आती गेंदों को खेलना और 140 की रफ्तार से की गई गेंद को खेलने में काफी फर्क है। यहां आईपीएल का अनुभव मेरे काम आएगा।

उन्होंने कहा, मैं शांत रहता हूं और यह चीज मैंने अपने पिता से सिखी है। वह जब नेट्स में बल्लेबाजी करते थे उस समय काफी संयम रखते थे। मैंने अडर-14 और अंडर-16 टीमों में काफी दिन का क्रिकेट खेला है और मैं इसमें जल्द ही ढल जाता हूं।’शुभमन ने कहा, मेरी हमेशा से ऐसी मानसिकता रही है कि अगर मैं 100 के स्कोर पर खेल रहा हूं तो मैं अपनी पारी को आगे बढ़ाने की कोशिश करता हूं और खराब शॉट खेलने से बचना हूं। जब मैं पंजाब की तरफ से खेलता था उस समय मुझे युवराज सिंह और गुरकीरत सिंह के साथ समय बिताने का मौका मिला और उन्होंने मुझे काफी कुछ सिखाया।

उन्होंने कहा, ‘‘युवराज के करियर में काफी उतार-चढ़ाव आए और उन्हें काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ा। लेकिन उन्होंने हमेशा मेरा समर्थन किया और उनका मार्गदर्शन हमेशा मेरे काम आता रहा हैं। युवराज ने हमेशा ही मुझे अपने खेल पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कहा। वह कभी नहीं चाहते थे कि मैं अपने शुरुआती दौर में किसी प्लेयर मैनेजमेंट कंपनी के साथ करार करुं और उन्होंने कहा कि सिर्फ अपने खेल पर ध्यान दो इसके बारे में मत सोचो।