दिल्ली में इंडिया गेट और जामा मस्जिद जा-जाकर बोर हो गए हैं, तो ये 10 जगहें चले जाओ

दिल्ली दिलवालों की होने के साथ-साथ एक से एक बेहतरीन ऐतिहासिक जगहों की भी है. आपने इंडिया गेट, लाल क़िला और जामा मस्जिद तो कई बार घूमा होगा. हो सकता है बार-बार यहां जाकर बोर भी हो गए हों, तो ज़रा रुकिए और एक नज़र यहां दौड़ा लीजिए. आपको दिल्ली की वही जगह और दिल्ली दोबारा से नई लगने लगेगी. क्योंकि आज हम आपको दिल्ली की कुछ ऐसी जगहों के बारे में बताएंगे, जहां आप पहले नहीं गए होंगे.

1. मिर्ज़ा ग़ालिब की हवेली

चांदनी चौक स्थित ये हवेली उर्दू कवि मिर्ज़ा ग़ालिब की याद में बनाई गई थी. ग़ालिब ने अपने जीवन के सबसे चुनौतीपूर्ण दिनों को यहां गुज़ारा है. ये वो दौर था जब मुगलों का शासन चलता था. इस हवेली में एक संग्रहालय भी है, जो ग़ालिब के कुछ प्रमुख कामों को दर्शाता है.

2. हिजड़ों का ख़ानक़ा

महरौली में स्थित हिजड़ों का ख़ानक़ा को लोदी राजवंश के शासनकाल के दौरान बनाया गया था. ये जगह समाज के तीसरे हिस्से की शांति के लिए बनाया गया था. ये उनके सम्मान का प्रतीक है.

3. जमाली-क़माली

मौलाना शेख़ जमाली महान सूफ़ी कवि थे और क़माली भी इसी मस्जिद में रहते थे. दोनों ही ख़ुदा की इबादत किया करते थे. कहते हैं कि उनके मरने के बाद उनकी क़ब्र भी यहीं बना दी गई और उनकी क़ब्र से आज भी दुआ पढ़ने की आवाज़ें सुनाई देती हैं. इसकी वजह से लोग यहां शाम को नहीं रुकते हैं. ये मस्जिद क़ुतुब मीनार के पास महरौली में है.

4. गाज़ीपुर

गाज़ीपुर फूल मंडी है, यहां गेंदा, ट्यूलिप, गुलाब, कार्नेशन्स, ऑर्किड, इरिज़ और लिली जैसे फूल आपको मिल जाएंगे. ये बाज़ार फूलों की ख़ुशबू से सराबोर रहता है. यहां फूल सही दाम में भी मिल जाते हैं. यहां जाने के लिए आनंद विहार आईएसबीटी मेट्रो स्टेशन उतरें.

5. चूनामल हवेली

पुरानी दिल्ली की सैर करते-करते एकबार चूनामल हवेली की तरफ़ अपने क़दम ज़रूर बढ़ाइएगा. 140 दुकानों से घिरी ये हवेली आपको पुराने समय की याद दिलाएगी.

6. जहाज़ महल

महरौली में बनी इस जगह को लोदी साम्राज्य के शासनकाल में बनाया गया था. ये पर्यटकों के लिए सुकून के पल बिताने के लिए अच्छी जगह है.

7. संतुष्टि शॉपिंग कॉम्प्लेक्स

संतुष्टि शॉपिंग कॉम्प्लेक्स को खरीदारी, बढ़िया खाना और अनोखी सजावट के लिए जाना जाता है. इस छोटी सी जगह में कपड़े, जूते, गहने और यहां तक कि आयुर्वेदिक सामान भी खरीद सकते हैं. ये चाणक्यपुरी में है.

8. बिजय मंडल

हौज़ ख़ास के आस-पास बना बिजय मंडल ज़ॉगिंग के लिए बढ़िया जगह है. इसे 14वीं शताब्दी में सेना की टुकड़ियों पर नज़र रखने के लिए बनाया गया था. इस क़िलेनुमा महल की बनावट बहुत ही बेहतरीन और आश्चर्य से भरी है.

9. सतपुला डैम

दिल्ली के शोर-शराबे से दूर ये डैम दिल्ली के इतिहास को समेटे है. इस डैम को पुराने समय में पानी इकट्ठा करने के लिए बनाया गया था. हालांकि की ये नदी अब सूख चुकी है, लेकिन इसकी कारीगरी और वास्तुकला लोगों में आज भी आकर्षण का केंद्र है.

10. दिल्ली वॉर सेमेटरी

इस सेमेटरी दूसरे विश्व युद्ध में ब्रिटिश कॉमनवेल्थ के ख़िलाफ़ लड़े सैनिकों की याद में बनाया गया था. इसे बनाने का उद्देश्य के पीछे नारा था, ‘गुज़रे मगर भुलाए नहीं गए’. यहां ऊंचे स्तंभ और अनोखे स्मारक और बगीचे हैं. ये दिल्ली छावनी में है.