दिल्ली हिंसा की आग में जला बच्चों को भविष्य: 10वीं-12वीं की बोर्ड परीक्षा टली

नई दिल्ली: नागरिकता कानून को लेकर चल रहे विरोध ने हिंसक रूप धारण कर लिया है। जिसका असर अब बोर्ड की परीक्षाओं पर पड़ने लगा है। वहीँ विरोध प्रदर्शन के कारण केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने उत्तर पूर्वी दिल्ली में स्थित परीक्षा केंद्रों पर बुधवार को होने वाली 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षा अगली सूचना तक के स्थगित कर दी है।

दिल्ली में बढ़ती हिंसा के चलते परीक्षाएं टली

दिल्ली सरकार के आदेश पर CBSE ने यह फैसला लिया है। CBSE ने कहा कि बाकी सभी परीक्षा केंद्रों पर पहले से निर्धारित कार्यक्रमों के अनुसार परीक्षाएं आयोजित की जाएगी। प्रभावित विद्यार्थियों को परीक्षा की अगली तारीख की सूचना जल्द ही दे दी जाएगी।

वेबसाइट पर जानकारी उपलब्ध

बोर्ड ने लगभग 86 स्कूल सेंटर पर परीक्षा स्थगित की। जिन परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा स्थगित हुई है उनकी सूची बोर्ड ने अपनी वेबसाइट www.cbse.nic.in पर उपलब्ध करा दी है।उत्तर-पूर्वी जिले में हिंसा के चलते मंगलवार को सरकारी और निजी स्कूल बंद रहे। इस कारण स्कूलों में होने वाली परीक्षाएं भी रद्द रहीं। वहीं, अन्य इलाकों के स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति कम रही। हिंसा की आशंका के चलते अभिभावकों ने बच्चों को स्कूल नही भेजा।
कई जगह पर हालात इतने बेकाबू हो चुके हैं शिक्षक भी स्कूल नहीं पहुंचे। स्कूलों में इन दिनों वार्षिक परीक्षाएं चल रही हैं। यदि ऐसे ही हालात बेकाबू रहे तो अन्य जगहों की परीक्षाएं भी रद्द की जा सकती हैं।
गौरतलब है कि नागरिकता कानून को लेकर दिल्ली सुलग रही है। रविवार यानी 23 फरवरी को मौजपुर से शुरू हुई हिंसा अब उत्तर-पूर्वी दिल्ली के कई इलाक़ों में फैल चुकी है। इस दौरान एक पुलिसकर्मी समेत 11 लोगों की मौत हो गई है वहीं, सवा सौ से ज्यादा लोग घायल हैं। घायलों में कइयों को गोली लगी है।