दिल्ली हिंसा में फरिश्ता बना भाजपा पार्षद, आधी रात में हिंसक भीड़ से मुस्लिम परिवार को बचाया

दिल्ली हिंसा में फरिश्ता बना भाजपा पार्षद, आधी रात में हिंसक भीड़ से मुस्लिम परिवार को बचायाएक ओर जहां नागरिकता संशोधन कानून पर दिल्ली के कई इलाकों में हिंसक झड़प जारी है, वहीं भारतीय जनता पार्टी के एक पार्षद ने हिंसक भीड़ के चंगुल से एक मुस्लिम परिवार और उसके घर को बचाकर इंसानियत की मिसाल पेश की है। हिंसा के बीच दिल्ली के यमुना विहार से भाजपा के वार्ड पार्षद प्रमोद गुप्ता मुस्लिम शख्स शाहिद सिद्दीकी के परिवार की मदद के लिए आगे आए और लगभग 150 लोगों की हिंसक भीड़ से उनके घर को आग के हवाले होने से बचाया।शाहिद सिद्दीकी ने एक टीवी चैनल से बातचीत में बीती रात की घटना को लेकर कहा कि भीड़ ने अचानक ‘जय श्री राम’ के नारे लगाते हुए पड़ोस की ओर बढ़ना शुरू कर दिया। भीड़ ने उस ओर से प्रवेश किया जो मुस्लिम बहुल इलाके की ओर जाता था, जहां पुलिस ने बैरिकेडिंग नहीं कर रखा था। सिद्दिकी ने कहा कि यह घटना करीब 11.30 बजे की है। सिद्दीकी ने कहा कि भीड़ ने पहले उनके घर के नीचे एक बुटीक जलाया, जो उनके किराएदार का था। उसके बाद उनके परिवार की एक कार और मोटरबाइक को भी भीड़ ने जला दिया।शाहिद सिद्दीकी ने कहा, ‘भीड़ ने हमारे गैराज से हमारी कार और एक मोटरसाइकिल निकाली और उसमें आग लगा दी। उन्होंने मेरे किराएदार के बुटीक को भी नुकसान पहुंचाया, जिससे कम से कम 20 लाख रुपये का नुकसान हुआ।’हालांकि, इसके तुरंत बाद भाजपा के पार्षद प्रमोद गुप्ता जो कि सिद्दीकी के लंबे समय से दोस्त हैं, परिवार के बचाव में आए और भीड़ को उन्हें या उनकी संपत्ति को और ज्यादा नुकसान पहुंचाने से रोका। हिंसक भीड़ से सिद्दीकी अपने परिवार के साथ मुश्किल से बच पाए, जिसमें दो महीने का एक बच्चा भी था। सिद्दीकी ने कहा कि जैसे ही हमें किसी अनहोनी का एहसास हुआ, तुरंत अपने परिवार के साथ भागे। बाद में पता चला कि यह भाजपा के वार्ड पार्षद प्रमोद गुप्ता थे, जिन्होंने भीड़ को हमारे घर को आग लगाने से रोका।गौरतलब है कि सोमवार को नागरिकता संशोधन कानून का विरोध करने वाले और समर्थन करने वाले नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के जाफराबाद, मौजपुर आदि इलाकों में आपस में भिड़ गए, जिसकी वजह से हिंसा हुई और इसमें करीब 8 लोगों की मौत हो गई और 150 से अधिक घायल हो गए। सोमवार की हिंसा में करीब दर्जनों गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया और कई दुकानों को नुकसान पहुंचाया।