देवी मां को चढ़ाया 300 करोड़ का नौलखा हार, 177 साल पुराना इसका इतिहास

गुजरात के महेसाणा में स्थित प्रसिद्ध बहुचराजी माता मंदिर में देवी को 300 करोड़ का नौलखा हार चढ़ाया गया है. साल में एक ही बार देवी को पालखी यात्रा में नौलखा हार पहनाया जाता है, वो भी विजय दशमी के दिन. देवी को पहनाए जाने वाले हार को कड़ी निगरानी में रखा जाता है.

देवी मां को चढ़ाया 300 करोड़ का नौलखा हार, 177 साल पुराना इसका इतिहास

विजय दशमी के दिन यहां मां बहुचर की भव्य पालकी निकलती है. इस दिन मां को खास नौलखा हार पहनाने की परंपरा होती है. देवी को पहनाए गए हार की कीमत तकरीबन 300 करोड रुपये है.

देवी मां को चढ़ाया 300 करोड़ का नौलखा हार, 177 साल पुराना इसका इतिहास

मंदिर के प्रबंधक केसी जानी का कहना है कि यह हार 1839 में जब पहली बार गायकवाड़ परिवार ने देवी को चढ़ाया था, तब इसकी कीमत 9 लाख रुपये थी. इसीलिए इसे नौलखा हार भी कहा जाता है.

देवी मां को चढ़ाया 300 करोड़ का नौलखा हार, 177 साल पुराना इसका इतिहास

हार की विशेषता-
देवी मां को जो हार चढ़ाया जाता है उसमें 6 बेशकीमती नीलम जड़े हैं. हार में 150 से ज्यादा हीरे लगे हुए हैं. ये हार करीब 177 साल पुराना है. इसकी मौजूदा कीमत 300 करोड़ रुपए बताई जा रही है.

देवी मां को चढ़ाया 300 करोड़ का नौलखा हार, 177 साल पुराना इसका इतिहास

क्यों चढ़ाते हैं देवी को ये हार?
देवी को ये हार चढ़ाने के पीछे के कहानी भी बेहद दिलचस्प है. वडोदरा के राजवी श्रीमंत मनाजीराव गायकवाड़ जब कड़ी तहसील के सूबेदार थे तब उन्हें असाध्य रोग हो गया था जिसके बाद देवी से मन्नत मांगी गई. इससे उनका दर्द ठीक हो गया और बाद में वह राजा भी बन गए.

देवी मां को चढ़ाया 300 करोड़ का नौलखा हार, 177 साल पुराना इसका इतिहास

इसके बाद उन्होंने 1839 में देवी का भव्य मंदिर बनवाया और बहुचर देवी को बहुमूल्य नौलखा हार अर्पण किया. करोड़ों की कीमत का यह हार कड़ी सुरक्षा के बीच रखा जाता है, जिसे केवल दशहरे पर ही देवी मां को पहनाया जाता है. इस हार को पहनाए जाने के बाद देवी की सुरक्षा काफी बढ़ा दी जाती है. देवी के आस-पास कई हथियारबंद सुरक्षा जवान तैनात रहते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *