देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र सरकार को किसान कर्जमाफी और महिला सुरक्षा के मुद्दे पर घेरा, शायरी से जाहिर किया दर्द

 महाराष्ट्र में आज भारतीय जनता पार्टी ने महाविकास आघाड़ी सरकार के खिलाफ पूरे राज्य में मोर्चा निकाला है. मुंबई के आजाद मैदान में पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इसका नेतृत्व किया. महाराष्ट्र बीजेपी के तमाम कद्दावर नेताओं की मौजूदगी में जब देवेंद्र फडणवीस ने मंच संभाला तो उनके भाषण में उनका दर्द छलक आया. इस दौरान फड़णवीस ने कार्यकर्ताओ को शेर सुनाते हुए कहा ‘आज वो हुए मशूहर जो काबिल नहीं थे, मंजिलें मिली उनको जो दौड़ में शामिल नही थे.’महाराष्ट्र में किसानों की कर्ज माफी और महिलाओं की सुरक्षा को लेकर बीजेपी ने आज मोर्चा निकाला. देवेंद्र फडणवीस ने भी मंच संभालते ही बार-बार दोहराया कि किसानों को सरकार ने मूर्ख बनाया है. सरकार किसानों के मुद्दों पर पूरी तरह से फेल हो चुकी है. फडणवीस ने दावा किया कि मौजूदा सरकार ने भाजपा सरकार की किसान हित के सारे कार्य बंद कर दिए हैं. फडणवीस का कहना था कि जनता के हित के लिए किए गए भाजपा के काम जनता से जुड़े थे. उन्होंने कहा कि भाजपा के नेता किसी राजघराने से नहीं आए थे, भाजपा के नेता आम आदमी की तरह सोचते थे, आज उनकी योजनाओं को बंद कर दिया गया है.महाराष्ट्र में जब से महाविकास आघाड़ी की सरकार बनी है सावरकर का मुद्दा बार-बार उठता रहा है. इसके साथ ही कांग्रेस के बड़े नेता सावरकर का अपमान करते रहते हैं और शिवसेना इन प्रक्रमों पर सफाई देती फिरती है. आज देवेंद्र फडणवीस ने भी सावरकर का नाम लेते हुए कांग्रेस पर सावरकर का अपमान का आरोप लगाया. इसके साथ ही शिवसेना और उनके नेताओं पर कंप्रोमाइज की बात भी कही. देवेंद्र फडणवीस ने वारिस पठान को घेरते हुए उन्हें लावारिस पठान कह दिया, वहीं उनके दिए बयान की निंदा भी की.राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए फडणवीस ने बोला कि ‘भाजपा सरकार ने गरीबों को 300 वर्ग फुट के घर देने का दावा किया था. उस वक्त राहुल गांधी ने कहा था कि वह 500 वर्ग फुट का घर देंगे. अब सरकार बनने के बाद गरीबों के साथ विश्वासघात किया जा रहा है. गरीबों का हक मारकर ये सरकार बिल्डरों को दे रही है’. उन्होंने कहा कि ये सरकार बिल्डरों की सरकार है जो सिर्फ उनके हित के बारे में सोच रही है.सभा के अंत में देवेंद्र फडणवीस ने साफ कर दिया कि उनकी पार्टी चुपचाप नहीं बैठने वाली है, और सरकार की जवाबदेही तय करने जा रही है. राज्य में किसानों, मांओं और बहनों का अपमान उनकी पार्टी नहीं सहेगी और सरकार के खिलाफ आंदोलन करती रहेगी.