परमाणु बम के बारे में हैरान कर देने वाले रोचक तथ्य जिसके बारे में शायद आप नहीं जानते

जैसा की आप जानते हैं की परमाणु बम ने जापान के हिरोशिमा और नागासाकी पर कितना कहर बरपाया था। जब इन बमों को इन शहरों के ऊपर गिराया गया तब इन शहरों की 95% आबादी पूरी तरह से खत्म हो गयी थी। और उस वक्त पूरी दुनिया को परमाणु बमों से होने वाले भयंकर विनाश का पता चला। आज दुनिया के लगभग हर विकासशील देश के पास परमाणु बम हैं और जिन देशों के पास नहीं है वो परमाणु बम बनाने की कोशिश में हैं। दोस्तों ये परमाणु बम पूरी मानव जाती को ख़त्म कर सकती है। आज पूरी दुनिया में इतने सारे परमाणु बम हैं की उससे पूरी दुनिया को लगभग 3 बार पूरी तरह से खत्म किया जा सकता है। आज मैं आपको परमाणु बमों से जुडी वो रोचक तथ्य बताने वाला हूँ जिसके बारे में शायद आप नहीं जानते। 

1.परमाणु बम इतनी आवाज पैदा कर सकते है कि हमारे कानों के पर्दे फट जाए| परमाणु विस्फोट की तरंगे सुपरसोनिक होती है| यदि आप हमले वाली जगह पर ठीक बीच में खड़े हो तो धमाके की आवाज सुनने से पहले ही आपकी मौत हो जाएगी| परमाणु बम 240 से 280 dB तक की आवाज पैदा कर सकते है जबकि इंसान के कान सिर्फ 120 dB तक की आवाज सुन सकते है| धरती पर सबसे ज्यादा आवाज परमाणु बम ही करते है इसके बाद ज्वालामुखी का नंबर आता है|

2. परमाणु बम का अविष्कार, द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान मैनहट्टन प्रोजेक्ट में काम करने वाले वैज्ञानिकों द्वारा किया गया था| ‘Robert Oppenheimer’ इस प्रोजेक्ट के डाॅयरेक्टर थे इन्हें ‘परमाणु बम का पिता’ भी कहा जाता है|

3. पहला परमाणु बम परीक्षण 16 July, 2015 को सुबह साढे पांच बजे न्यू मैक्सिकों के अलमोगार्डो में किया गया था| इस बम का नाम ‘The Gadget’ था| इसमें 20 किलोटन TNT का प्रयोग किया गया था जिससे धमाका होने पर 600 मीटर ऊंची मशरूम जैसी आकृति बनी थी|

4.जो मिसाइल परमाणु हथियारों को ले जाने का कार्य करती है उनकी स्पीड 7 किलोमीटर प्रति सेकंड होती है, यानि, 400km/minute|

5.इस समय दुनिया के नौ देशों के पास लगभग 14,900 से ज्यादा परमाणु हथियार है| इनमें से 93% रूस और अमेरिका के पास है| ये पूरी मानव जाति को कई बार खत्म करने में सक्षम है|

6.किसी और देश के मुकाबले रूस के पास सबसे ज्यादा लगभग 7000 परमाणु हथियार है| इसके बाद अमेरिका (6800), फ्रांस (300), चीन (260), इंग्लैड (215), पाकिस्तान (120-130), भारत (110-120), इजरायल (80) और नार्थ कोरिया (10 से कम) का नंबर आता है|

7.न्यू मैक्सिकों में जहाँ दुनिया का पहले परमाणु बम का परीक्षण किया गया था आज उस जगह पर परमाणु बम संग्रहालय बना हुआ है| ‘ट्रिनिटी साइट’ नाम से मशहूर यह म्यूजियम साल में केवल 12 घंटे खुलता है| एक बार अप्रैल के पहले शनिवार को और एक बार अक्टूबर के पहले शनिवार को और इसके खुलने का समय 8am से 2pm है|

8. 1950 के आस-पास परमाणु बमों का परीक्षण करना ‘लाॅस वेगास’ शहर के पर्यटकों के लिए एक आकर्षण का केंद्र बन गया था| मेन सिटी से 80 किलोमीटर दूर ये परीक्षण किए जाते थे| पूरे शहर में परमाणु बम की मशरूम जैसी आकृति देखकर पार्टियाँ मनाई जाती थी|इसके चलते लाॅस वेगास शहर को ‘Atomic City’ भी कहा जाने लगा था|

9.यदि 15 किलोटन के 100 न्यूक्लियर बमों का इस्तेमाल धरती पर किया जाये तो आसमान में काला धुंआ छा जाएगा, सूरज की रोशनी ठीक से धरती पर नही पहुंच पाएगी, आधी ओजोन परत समाप्त हो जाएगी और ऐसी ऐसी बीमारियों का जन्म हो जाएगा जिनका हम अंदाजा भी नही लगा सकते|

10. शीत युद्ध के दौरान अमेरिका ने एक एटम बम चंद्रमा पर गिराने की भी सोची थी ताकि वे अपनी सेना की शक्ति का प्रदर्शन कर सके|

11.अमेरिका परमाणु हथियार बनाने वाला पहला देश है| यह एकमात्र ऐसा देश भी है जिसने युद्ध के लिए परमाणु बम का इस्तेमाल किया| यह अकेला अपने परमाणु हथियारों पर सभी देशों द्वारा मिलाकर किए गए कुल खर्च से भी ज्यादा खर्च करता है|

12. 5,00,00,00,000 किलोग्राम के परमाणु बम में इतनी विस्फोटक शक्ति होती है जितनी पूरे दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान प्रयोग की गई थी|

13.सीटी स्कैन कराने से आपके शरीर पर रेडियोएक्टिव रेडिएशन का उतना ही प्रभाव पड़ता है जितना हिरोशिमा विस्फोट के समय डेढ किलोमीटर दूर खड़े आदमी के शरीर पर पड़ा था| एक सीटी स्कैन से हमारे शरीर में 1-10 millisieversts तक रेडिएशन पहुंचती है|

14.परमाणु बम भी एक्सपायर होते है. लगभग सबकुछ जो मानव निर्मित है उसकी एक समय सीमा होती है| परमाणु बमों की समाप्ति तारीख इस चीज पर निर्भर करती है कि इसमें किस पदार्थ का प्रयोग किया गया है| इसमें प्रयोग किए गए पदार्थों को हाफ लाइफ के बाद बदलना होता है जैसे ट्रिटियम की हाफ लाइफ 12.3 साल, प्लूटोनियम की 24,100 साल, यूरेनियम की 4 अरब साल और थोरियम की 14 अरब साल होती है| समय-समय पर कुशल इंजीनियर इन्हें देखते रहते है और जिस चीज में थोड़ा-सा भी डिफेक्ट मिलता है उसे बदल देते हैं|

15. 1958 में, संयुक्त राज्य अमेरिका का एक न्यूक्लियर बम जाॅर्जिया के समुंद्र तट पर खो गया था| यह 2016 में कुछ पर्यटक गोतोखोरों को मिल गया| उन्होनें तुरंत 911 पर काॅल करके इस 3.9 मेगाटन के बम को डिफ्यूज करवा दिया|