पार्टनर नहीं करता आप पर भरोसा तो उससे कुछ ऐसे करें डील

कहते हैं कि अगर किसी रिश्ते में प्यार ना हो तो वह बेमानी होता है। यकीनन किसी रिश्ते की खूबसूरती आपसी प्यार में ही छिपी होती है। लेकिन सिर्फ प्यार के दम पर रिश्ता ताउम्र चल सके, यह कहना सही नहीं है। दरअसल, ऐसे कई महत्वपूर्ण तथ्य होते हैं, जो कपल्स के बीच के प्यार को हमेशा बनाए रखने में मदद करते हैं। साथ ही उनके रिश्ते की नींव को मजबूती देने का भी काम करते हैं। इन्हीं महत्वपूर्ण तथ्यों में से एक है विश्वास। अगर किसी रिश्ते में प्यार हो, लेकिन आपसी विश्वास ना हो तो ऐसे रिश्ते का भविष्य अंधकारमय होता है। जरा सोचकर देखिए कि जिस व्यक्ति पर आप विश्वास नहीं कर सकतीं, उसके साथ पूरी जिन्दगी किस तरह बिताई जा सकती है। ठीक उसी तरह, अगर आपका पार्टनर आप पर भरोसा नहीं करता तो वह आपसे अपनी बात शेयर कैसे करेगा और आपके बीच का रिश्ता खुशनुमा व हेल्दी कैसे बनेगा। हालांकि यह स्थिति थोड़ी कठिन हो सकती है, लेकिन आप कुछ छोटे-छोटे उपायों को अपनाकर इस स्थिति को आसानी से हैंडल कर सकती हैं-

जानिए कारण

partner who doesnt trust you INSIDE
अगर आपका तो इसका अर्थ यह नहीं है कि आपमें कोई कमी है या आपने किसी तरह अपने पार्टनर को चीट किया है। इसलिए खुद को दोष ना दें। दरअसल, कई बार कुछ अन्य कारणों के चलते भी व्यक्ति के भीतर अविश्वास और असुरक्षा की भावना जन्म लेती है। मसलन, बचपन से उसने रिश्तों में धोखेबाजी व अविश्वास का माहौल देखा हो तो ऐसे में उसके मन में भी एक अविश्वास की धारणा जन्म लेती है। इसके अलावा हो सकता है कि आपके पार्टनर कोई पास्ट रहा हो और अपने एक्स रिलेशन में उसे धोखा मिला हो। इस स्थिति में व्यक्ति जल्दी से किसी पर विश्वास नहीं कर पाता। यहां तक कि वह हरदम अपने पार्टनर को शक की नजरों से देखता है। इसलिए दुखी या परेशान होने की जगह सबसे जरूरी है कि आप अपने पार्टनर के विश्वास ना करने के कारणों को जानें।

सेट करें बाउंड्री 

भले ही आप किसी से कितना भी प्यार करती हों, लेकिन शुरूआत से ही कुछ बाउंड्री सेट करना बेहद जरूरी है। जब आप किसी के unreasonable expectations को पूरा करना शुरू कर देती हैं तो इससे ना सिर्फ आपके भीतर तनाव की स्थिति उत्पन्न होती है, बल्कि पार्टनर के भीतर का अविश्वास भी बढ़ने लगता है। आपको उचित और अनुचित अपेक्षाओं के बीच अंतर करना सीखना होगा और अपने पार्टनर की अनुचित अपेक्षाओं को पूरा करने से मना करें। मसलन, अगर आप कहीं बाहर जा रही हैं तो पार्टनर को यह बताना कि आप कहां जा रही हैं, गलत नहीं है। लेकिन आपने के दौरान क्या बात की, कहां गई और क्या-क्या किया, हर एक छोटी डिटेल की जानकारी देना गलत है। आपको भले ही यह पारदर्शिता लगे, लेकिन जब आप ऐसा करने लगती हैं तो पार्टनर खुद ब खुद कई बातें अपने मन से बनाने लग जाता है और फिर उसके मन में अविश्वास की भावना प्रबल होती है।

करें बात

partner who doesnt trust you INSIDE
अगर आपको लगता है कि बिना किसी वजह से ही आपका पार्टनर हरदम आपके उपर शक करता है या फिर उसके मन में हरदम एक शंका रहती है, तो मन ही मन घुटने के स्थान पर आप साफतौर पर उससे बात करें। इस दौरान बेहद शांत व धैर्यपूर्ण तरीके से यह जानने का प्रयास करें कि आखिर उसके मन में ऐसी कौन सी बात है, जिसके कारण वह आप पर विश्वास नहीं करता। उसके मन की बात जानने व उसे समझाने के लिए आप प्रोफेशनल हेल्प भी ले सकती हैं। जैसे किसी या साइकोलॉजिस्ट से बात करने से आपको अपने रिश्ते को संभालने में काफी मदद मिलेगी।

रखें धैर्य

यकीनन ऐसे व्यक्ति के साथ रहना काफी कठिन हो सकता है, जो आप पर विश्वास ही ना करता हो। लेकिन अगर आप सही हैं तो आप अपने पार्टनर से अलग होने की जगह धीरे-धीरे धैर्य व अपने प्यार के जरिए रिश्ते में भरोसा पैदा करने की कोशिश करें। अगर वह किसी अतीत के अनुभव के कारण किसी पर भी भरोसा नहीं करते तो ऐसे में आपको अपने पार्टनर का भरोसा जीतने में थोड़ा समय लग सकता है। यह थोड़ा मुश्किल जरूर है, लेकिन आप अपने प्यार के सहारे ऐसा आसानी से कर सकती हैं।