पुलिस की घोर निर्दयता, हेलमेट न पहनने पर शख्स के माथे में घोंप दी बाइक की चाभी

नई दिल्ली: यह घटना उत्तराखंड के उधमसिंह नगर की है।यहां एक बाइक सवार शख्स ने हेलमेट नहीं पाया तो कुछ पुलिसवालों ने उसे रोका।जहां इन पुलिसवालों ने शख्स से हेलमेट न पहनने को लेकर पूछताछ शुरू की।इसी बीच शख्स और इन पुलिसवालों के बीच कहासुनी शुरू हो गई।कहासुनी इतनी बढ़ गई कि इनमे से एक पुलिसवाले ने न आव देखा न ताव, शख्स की बाइक से चाभी निकाली और सीधा शख्स के माथे में बेहद बदर्दी के साथ घोंप दी।वहीं, पुलिस वाले को ऐसा कृत्य करते हुए उसके साथ मौजूद अन्य पुलिस वालों ने उसे रोकने की कोशिश तक नहीं की।आप समझ सकते हैं कि, जब शख्स के माथे में नुकीली चाभी घुसी होगी तो वह किस दर्द से गुजरा होगा।लेकिन चाभी घोंपने वाले पुलिसवाले और अन्य पुलिसवालों का हदय ऐसा करते वक्त लगता है तनिक भी नहीं पसीजा।

हलेमेट नहीं पहना था तो कार्रवाई करते…

शख्स ने अगर हलेमेट नहीं पाया था और आपने उसे पकड़ लिया था और उससे पूछताछ कर रहे थे तो करते।इसमे कोई हर्ज नहीं था।उसने हेलमेट नहीं पाया था तो उससे इस बारे में पूछना लाजमी था और इस बीच अगर शख्स आपके साथ तनातनी कर भी रहा था तो ये थोड़ी न है कि आप उसे इतना गहरा नुकसान पहुँचा दोगे।यह कानून के विरुद्ध है।आप ऐसा नहीं कर सकते है।आप जो भी बनती क़ानूनी कार्रवाई कर सकते थे वो करते।

फिलहाल, हुए सस्पेंड…

शख्स के साथ पुलिस ने जो आमानवीय कृत्य किया है उसकी निंदा हर ओर हो रही है खासकर उधमसिंह नगर में।जिसको देखते हुए शख्स के साथ बर्बरता में शामिल तीन पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया गया है।
इसकी जानकारी उधमसिंह नगर के एसएसपी दिलीप सिंह कुंवर ने खुद दी है।उधमसिंह नगर के एसएसपी दिलीप सिंह कुंवर ने बताया कि तीन पुलिसवाले (एक दरोगा और दो कांस्टेबल) को तत्काल सस्पेंड कर दिया गया है।इसके साथ ही मामले की जांच की जा रही है।जांच के बाद जैसे भी परिणाम सामने आएंगे उसके आधार पर सस्पेंडेड पुलिस वालों पर कार्रवाई भी की जाएगी।

उधमसिंह नगर के एसएसपी दिलीप सिंह कुंवर ने कहा कि जिस प्रकार से नगर की जनता थाने के बाहर खड़ी होकर पुलिस के प्रति हिंसक रूप अपना रही है पथराव कर रही है यह कतई सही नहीं है।मेरी अपील है कि आप लोग शांति बनाए रखें।कानून को अपने हाथ में न लें।हम मामले में कार्रवाई कर रहे हैं।

उधमसिंह नगर के एसएसपी दिलीप सिंह कुंवर ने बताया बाइक सवार का इलाज़ कराया गया है और वह स्वस्थ है।