पूजा हेगड़े की फिटनेस का राज, पेट की चर्बी कम करने के लिए रोजाना करें ये 3 योगासन!

अगर आप बॉलीवुड अभिनेत्री पूजा हेगड़े की तरह इन 3 योगासनों को रोजाना करते हैं, तो आप फिट रहने के साथ पेट की चर्बी तेजी से कम कर पाएंगे।

 पूजा हेगड़े एक भारतीय मॉडल-अभिनेत्री हैं। वह वर्ष 2010 में मिस यूनिवर्स इंडिया की दूसरी रनर-अप रहीं। पूजा हेगड़े को आशुतोष गोवारिकर की फिल्म मोहनजोदड़ो में ऋतिक रोशन के साथ देखा गया था। हालाँकि उनकी फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बहुत अच्छा नहीं कर पाई, लेकिन पूजा हेगड़े अपनी फिटनेस और सुंदरता को लेकर काफी चर्चा में रहती हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि वह खुद को फिट रखने के लिए कड़ी मेहनत करती हैं और अपने प्रशंसकों को फिटनेस के प्रति प्रेरित करने के लिए इंस्टाग्राम पर वीडियो और तस्वीरें भी साझा करती हैं। यदि आप खुद को पूजा हेगड़े की तरह पसंद करते हैं और पेट की चर्बी तेजी से कम करना चाहते हैं, तो अपनी फिटनेस दिनचर्या में पूजा के इन 3 आसान योगासनों को शामिल करें।

 हां, कोरोना वायरस के कारण लोगों ने घर से बाहर निकलना कम कर दिया है और वे अपना अधिकांश समय घर पर बिता रहे हैं। ऐसे में बढ़ता वजन ज्यादातर महिलाओं को परेशान करता है। इसलिए अपनी फिटनेस का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। कई बॉलीवुड सेलेब्स ने इस दौरान भी फिटनेस बनाए रखी है और उनकी दिनचर्या में योग और व्यायाम शामिल हैं। अभिनेत्री पूजा हेगड़े भी अपनी फिटनेस का पूरा ध्यान रख रही हैं। हाल ही में उन्होंने योग करते हुए अपनी कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की हैं।

 1. आधा पिन

 अभिनेत्री पूजा हेगड़े ने इंस्टाग्राम पर उनका एक छोटा वीडियो साझा किया है, जिसमें फिटनेस फ्रीक डॉल्फिन पोज यानी अर्धिनप मयूरासन करते हुए देखा जा सकता है। डॉल्फिन मुद्रा कंधे खोलते हुए, कोर, हाथ और पैर को मजबूत करती है। इस मुद्रा को कलाई के लिए एक प्रभावी योग मुद्रा माना जाता है और यह पैरों, ऊपरी पीठ, कंधों और बाहों के मुद्दों पर भी काम करता है। यह रीढ़ में लचीलापन जोड़ता है और कंधों को खोलते समय हैमस्ट्रिंग को भी लचीला बनाता है। इसके अलावा, यह एकाग्रता और याददाश्त में सुधार और तनाव को कम करने में भी मदद करता है। साथ ही इसे रोजाना करने से बॉडी फैट खासकर बेली फैट को कम किया जा सकता है।

 हाफ पिन कैसे बनाएं

 इस योगासन को करने के लिए सबसे पहले अपने घुटनों के बल बैठ जाएं।

 फिर अग्रभाग को फर्श पर रखें। इसे करते समय ध्यान रखें कि आपके कंधे और कोहनी एक ही लाइन में हों।

 अब अपनी कमर, कूल्हों और घुटनों को ऊपर की ओर उठाएं।

 इस समय, आपके पैर और पैर सीधे होने चाहिए।

 अब गर्दन को आराम देते हुए कंधों को कान से दूर ले जाएं।

 उसके बाद, अपने हाथों की ओर चलें।

 इसे करते समय गहरी सांस लें और कुछ समय के लिए इसी मुद्रा में रहें।

 सावधान

 कंधे, गर्दन, हाथ या पीठ पर चोट लगने की स्थिति में इस योग को करने से बचें। कान के संक्रमण और बीपी से पीड़ित महिलाओं को ऐसा करते समय सावधानी बरतनी चाहिए।

 2. चक्रासन

 इस फोटो में पूजा हेगड़े को चक्रासन करते हुए देखा जा सकता है। इस फोटो को शेयर करते हुए उन्होंने कैप्शन में लिखा है, “सिर का प्यार।” इस आसन को करने से आपका पोज़ एक चक्र की तरह हो जाता है, इसलिए इसे चक्रासन कहा जाता है। चक्रासन या व्हील पोज़ में, शरीर को पीछे की ओर खींचना होता है। इसमें आप अपने शरीर को एक पहिये के आकार में फैलाते हैं। इससे आपके शरीर की चर्बी तेजी से कम हो सकती है। साथ ही, यह आपके शरीर को लचीला बनाता है।

 चक्रासन की विधि

 इस आसन को करने के लिए सबसे पहले अपनी पीठ के बल लेट जाएं।

 पैरों को घुटनों से मोड़ें ताकि एड़ी कूल्हों को छुए और पंजे जमीन पर हों।

 अब गहरी सांस लें और कंधों, कमर और पैरों को ऊपर की ओर उठाएं।

 इस प्रक्रिया के दौरान गहरी सांसें लें और छोड़ें।

 फिर कूल्हों से कंधों तक जितना संभव हो उतना अनुभाग उठाने की कोशिश करें।

 कुछ समय बाद, नीचे आएं और अपनी सांस को सामान्य करें।

 3. वीरभद्रासन

 पूजा हेगड़े खुद को फिट रखने के लिए वीरभद्रासन 3 भी करती हैं। इस योग के पोस्ट को साझा करते हुए उन्होंने कैप्शन में लिखा है, “दूसरे पैर को जमीन से उतारें और सूर्यास्त में उड़ान भरें।” यह योगासन पैरों की मांसपेशियों को मजबूत करता है और उन्हें सही आकार देता है। यह हाथों, कूल्हों और कंधों को अच्छी शेप देकर मजबूत बनाता है। कंधों को सीधा और मजबूत रखने में मदद करता है। साथ ही खड़े होने की स्थिति और मुद्रा में सुधार करता है। इसके अलावा, यह शरीर की चर्बी को कम करने में मदद करता है, विशेष रूप से कूल्हों और थर्ज के जिद्दी वसा को कम करने में।

 विरभद्रासन करने का तरीका ३

 वीरभद्रासन -3 करने के लिए, आप सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं।

 अब अपने दोनों पैरों को सीधा रखते हुए शरीर के ऊपरी हिस्से को नीचे झुकाएं और अपने दोनों हाथों को ज़मीन पर रखने की कोशिश करें।

 फर्श पर दोनों हाथों के साथ, अपने बाएं पैर को उठाएं और पीठ को सीधा करने की कोशिश करें।

 इसके बाद धीरे-धीरे अपने दोनों हाथों को ऊपर उठाएं।

 अब अपने दोनों हाथों को सीधा करें और उन्हें जमीन के समानांतर लाएं।

 इस स्थिति में, आपका ऊपरी शरीर और पैर एक सीधी रेखा में होना चाहिए।

 अपने दाहिने पैर पर संतुलन बनाएं और इस मुद्रा में बने रहने का प्रयास करें।

 इस मुद्रा में रहते हुए, 5 से 6 साँस लें और अपने पैरों को नीचे रखते हुए वापस अपनी पुरानी स्थिति में आ जाएँ।

 अब दूसरे पैर के साथ भी यही प्रक्रिया दोहराएं।