पूरे भारत में 25 सितंबर से 46 दिन का लॉकडाउन? दरअसल बात ये है

लगभग पूरा विश्व इन दिनों कोरोना वायरस से त्रस्त है।भारत में भी यह जोर पकड़े हुए है।नित दिन यहां कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखा जा रहा है।एक समय में यहां रोज आने वाले केसों की संख्या जितनी कम थी आज के समय में उतनी ही ज्यादा है।देश में अबतक कोरोना से ग्रसित हो चुके लोगों की संख्या 50,20,360 पहुँच चुकी है और 82,066 लोग अपनी जिंदगी गवां चुके हैं।वहीं, इसी बीच सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रही है जिसमे कहा जा रहा है कि 25 सितंबर से एक बार फिर 46 दिन के लिए देश लॉकडाउन होने जा रहा है।खास बात यह है कि यह पोस्ट राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ( NDMA ) के नाम से डाली गई है।

पोस्ट में कहा गया है देश में कोरोना वायरस के बढ़ते सिलसिले को देखते हुए राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ( NDMA ) ने भारत सरकार को एक पत्र लिखा है और कहा है देश में कोरोना वायरस के बढ़ते आंकड़े चिंताजनक हैं।कोरोना बेकाबू हो रहा है इसलिए 25 सितंबर से देश भर में 46 दिन का लॉक डाउन लगाना होगा ताकि कोरोना की स्थिति पर काबू पाया जा सके।पोस्ट में भरपूर दावा किया गया है कि देश में 25 सितंबर से एक बार फिर संपूर्ण लॉकडाउन ( Lockdown In India ) लगने जा रहा है।औऱ आपको बतादेंकि कि यह पोस्ट सोशल मीडिया के अलग अलग प्लेटफार्म्स पर देखने को भी खूब मिल रही है।मसलन, वायरल हो रही है।जहां लोग इसे सच मान रहे हैं और देश में लॉक डाउन लगने जा रहा है ऐसा चिल्लाते घूम रहे हैं।मतलब, खुद तो भ्रमित है हीं साथ ही दूसरों को भी कर रहे हैं।

सोशल मीडिया ( Social Media ) पर राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ( NDMA) के नाम से तेजी से वायरल हो रही पोस्ट बिल्कुल असत्य है।फर्जी है।राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने ऐसा कोई पत्र जारी नहीं किया है। प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो ( PIB Fact Check ) ने इस पोस्ट को जांचा है और पाया है कि यह पोस्ट फर्जी है।प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो ( PIB Fact Check ) ने ट्वीट कर बताया- ‘राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा सरकार को 25 सितंबर से देशव्यापी लॉकडाउन फिर से लागू करने के लिए नहीं कहा गया है।यह पोस्ट फेक है, गलत है।

बतादेंकि, सोशल मीडिया पर अधिकतर अफवाएं, फर्जी पोस्ट, गलत जानकारी वायरल होती रहती हैं।इनसे बचिए।जबतक इनके बारे में आप सबकुछ सही ढंग से जान नहीं लेते तबतक इनपर विश्वास मत करिए अन्यथा आप परेशानी में पड़ सकते हैं।