पौरुषत्व बढ़ाने का आसान देसी उपाय

आयुर्वेद हमारे देश की हजारों साल पुरानी चिकित्सा प्रणाली है, और इससे पुराने जमाने में बहुत ही घातक से घातक लाइलाज बिमारियों के भी इलाज बहुत ही आसानी से किये जाते थे। वर्तमान में इंसान की भागदौड़ भरी इस जिंदगी के जंजाल में फश चूका है। इसी कारण आजकल व्यक्तिगत लाइफ को लेकर भी बहुत से गंभीर प्रॉब्लम्स सामने आ रही है। वैसे तो बाजार में शारीरिक संबन्धी दवाइयों की मार्केट में बहुत भरमार है लेकिन ये दवाइया हमारी सेहत को बहुत ख़राब ही करती हैं। तो आइये जानते है पौरुषत्व बढ़ाने का ये आसान देसी उपाय।सफ़ेद मूसली एक ऐसी बेहतरीन जड़ी-बूटी है जिससे किसी भी प्रकार की शारीरिक शिथिलता और शारारिक कमज़ोरी को दूर करने की जबरदस्त क्षमता होती है। यही कारण है की कोई भी आयुर्वेदिक सत्व इसके बिना किसी भी तरह संम्पूर्ण नहीं माने जाते हैं। यह शीघ्रपतन, अल्पशुक्राणुता और इरेक्टाइल डिसफंक्शन के उपचार में भी बखूबी प्रयोग किया जाता है। यह वीर्य उत्पादन की मात्रा और गुणवत्ता में भी अत्यधिक सुधार लाता है। नपुंसकता का भी यह बहुत ही बेहतरीन इलाज हैं।कौंच के बीज, सफेद मूसली और अश्वगंधा के बीजों को बहुत ही बराबर मात्रा में मिश्री के साथ मिलाकर बारीक चूर्ण बनाकर एक चम्मच चूर्ण सुबह और शाम एक कप दूध के साथ लेने से शीघ्रपतन और वीर्य की कमी जैसी कई गंभीर समस्याएं दूर हो जाती हैं।यह जड़ी-बूटी है शारीरिक क्षमता बढ़ाने के लिये बहुत मशहूर है। अगर आप भी यौन संबंधी गंभीर समस्या से परेशान है तो इसका सेवन आपके लिए बहुत कारगर होगा और आप अपनी घरेलू लाइफ को और अधिक बेहतर बना सकेंगे। किसी अच्छे आयुर्वेदिक स्टोर पर यह आपको बहुत ही आसानी से मिल जायेगी।