प्राइवेट कंपनियों में काम करने वालों की कटेगी सैलरी, जानें क्यों

अगर आप भी प्राइवेट कंपनी के मुलाजिम (Private Company Employee) है तो जरा जाग जाइए। क्योंकि आपकी सैलरी जल्द ही कटने वाली है। वित्त वर्ष 2019-20 के खत्म होने में अब दो महीने से भी कम समय बचा है। ये वो वक्त होता है जब आपको अपनी साल भर की कमाई का हिसाब कंपनी को बताना होता है। अगर आपने ऐसा नहीं किया है कि आपकी सैलरी निश्चय ही कटेगी। कंपनियां अपने कर्मचारियों से दिसंबर के अंत से लेकर के मार्च तक इन सभी डॉक्युमेंट को जमा कराती है। इसमे जो चूक जाता है, वह अपनी सैलरी गवा बैठता है।क्यों जमा करने होते हैं डॉक्यूमेंटमार्च से पहले कंपनी आपसे पिछले महीनों में किए गए इंवेस्टमेंट प्रूफ की कॉपी मांगता है, ताकि वह आपके द्वारा टैक्स बचाने के लिए किए गए इंवेस्टमेंट की जांच कर ले। आपकी कंपनी आपको बाद में टैक्स ज्यादा या कम देने के झंझट से बचाने के लिए ऐसा करती है।ऐसे बचा सकते हैं अपनी सैलरी-अगर इनकम टैक्सेबबल है और निवेश के सबूत नहीं दिए हैं तो आपकी सैलरी कट जाएगी। इनकम टैक्स कानून 1961 के सेक्शन 192 के तहत टैक्स डिडक्टेड ऐट सोर्स ( टीडीएस) काटने की जिम्मेदारी आपके कंपनी की है।-अगर आपके वेतन से TDS काट भी लिया गया है तो आप निवेश, खर्च और अन्य छूट के बारे में इनकम टैक्स रिटर्न में जानकारी देकर काटी गई रकम को वापस पा सकते हैं।-आमतौर पर इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की शुरुआत जून के बाद होती है और डेडलाइन 31 जुलाई तक होती है। हालांकि, लगभग हर साल इस अवधि को एक महीने के लिए बढ़ाया जाता है।– टीडीएस कटौती की जानकारी लेने के लिए आपको सैलरी स्लिप चेक करना होगा। इसके साथ ही इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की वेबसाइट पर विजिट करके आप टैक्स कटौती से जुडी सारी जानकारी ले सकते हैं।