फोन में सही कैमरे की ऐसे करें पहचान, ज्यादा मेगापिक्सल ही अच्छे कैमरे गारंटी नही

फोन में सही कैमरे की ऐसे करें पहचान, ज्यादा मेगापिक्सल ही अच्छे कैमरे गारंटी नही

स्मार्टफोन निर्माता कंपनियों ने कैमरे की क्वॉलिटी को मेगापिक्सल तक ही सीमित कर दिया है। मौजूदा वक्त में फोन में 108 मेगापिक्सल (MP) तक के कैमरे दिए जा रहे हैं. लेकिन इसके बावजूद फोन में DSLR कैमरे जितनी अच्छी फोटो नहीं क्लिक की जा सकती है, जबकि DSLR कैमरे कम मेगापिक्सल करीब 16MP में ही कमाल की फोटो क्लिक होती है। आखिर ऐसा क्यों है और भारत में ऐसा माहौल क्यों बना दिया गया है कि ज्यादा मेगापिक्सल वाला स्मार्टफोन ही अच्छे कैमरे की गांरटी है, जबकि लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। बेहतर कैमरा कई चीजों पर निर्भर करता है, तो आज हम आपको ऐसे ही कुछ चीजें बताने जा रहे हैं, जो आपको हमेशा अच्छा कैमरा फोन खरीदते में मदद करेंगी। दरअसल स्मार्टफोन का कैमरा तब अच्छा होता है, जब उसमें अच्छी क्वॉलिटी वाला लेंस, इमेंज सेंसर, मेगापिक्सल, अपर्चर,फ्लैश, जूम, मौजूद हो। अब दिक्कत यह है कि आखिर फोन में मौजूद इन सभी चीजों की पहचान कैसे की जाएं।

मेगापिक्सल

फोन खरीदते वक्त मेगापिक्सल की संख्या के साथ ही उसका साइज अहमियत रखता है, जिनता ज्यादा बड़े साइज का पिक्सल होगा, उस पर ज्यादा लाइट पड़ेगी, जिसकी वजह से ज्यादा बेहतर क्वॉलिटी की फोटो क्लिक की जा सकेगी। कई बार स्मार्टफोन निर्माता कंपनियां एक छोटे इमेज सेंसर में ज्यादा मेगापिक्सल लगाकर ज्यादा मेगापिक्सल वाला कैमरा बना देती है। इससे मेगापिक्सल तो बढ़ जाते हैं। लेकिन फोटो अच्छी क्लिक नहीं होती है, जबकि कम मेगापिक्सल वाले डीएसएलआर कैमरे से अच्छी फोटो क्लिक होती है। दरअसल DSLR में काफी स्पेस होता है। इसकी वजह से इसमें बड़े साइज का इमेज सेंसर इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि अब कई मोबाइल निर्माता कंपनियां छोटे साइज के इमेंज सेसर से सॉफ्टवेयर की मदद से फोटो क्वॉलिटी को बढ़ा देती है। फिर यह फोनो बड़े इमेज सेंसर से क्लिक की गई फोटो का मुकाबला नहीं कर सकती हैं।

इमेज सेंसर

इमेज सेंसर जैसा कि नाम से स्पष्ट है, एक इमेज के कलर और बाकी चीजों को पहचानने का काम सेंसर करता है। मतलब जितना बड़ा इमेज सेंसर होगा, उससे ज्यादा अच्छी फोटो क्लिक होगी। ऐसे में जब भी फोन खरीदने जाएं, तो जरूर ध्यान दें, कि फोन का इमेंज सेंसर का साइज कितना है। डीएसएलआर कैमरे में सीसीडी का नाम आपने सुना होगा। एक बढ़िया कैमरा में थ्री सीसीडी इमेज सेंसर का उपयोग किया जाता है। आज कल स्मार्टफोन कैमरे में भी निर्माता सेंसर का जिक्र करते हैं।

अपर्चर

कैमरे में जो f1.7, f2.0 की वैल्यू होती है। वहीं अपर्चर होता है। इसमें f का मतलब होता है फोकल लेंथ। मतलब f की वैल्यू जितनी कम होगी। लेंस का दरवाजा उतना ज्यादा खुलेगा और ज्यादा लाइट अंदर जाएगी। उदाहरण को तौर पर आप समझ सकते हैं कि अगर अपर्चर f1.4 है, तो ज्यादा अच्छा है और अगर f2.0 है, तो कम अच्छा है।

लेंस

लेंस को आप कैमरे की आंख के तौर पर देख सकते हैं। लेंस के बगैर कैमरे की कल्पना भी नहीं की जा सकती। फोन में लेंस की क्वालिटी जितनी अच्छी होगी वह उतना ही बेहतर तस्वीर लेने में सक्षम होगा। लेंस सोनी और अन्य कंपनियों के आते हैं। जूम को 2X और 8X में मापा जाता है।

फ्लैश लाइट

फ्लैश लाइट का इस्तेमाल रात के दौरान फोटो क्लिक करने में किया जाता है। आजकल फोन में एलईडी फ्लैश लाइट का इस्तेमाल किया जाता है, जो बेहतर लाइट जनरेट करती है। कई कंपनियां फोन में दो फ्लैश लाइट उपलब्ध करा रही हैं। लेकिन अब रात के दौरान फोटो क्लिक करने के लिए नाइट मोड दिया जा रहा है, जो शटर स्पीड और सॉफ्टवेयर की मदद से चलता है।