भारतीय सेना इस्तेमाल करती हैं ये बंदूके, जानिए इनके बारे में

वर्तमान समय में भारतीय सेना दुनिया की एक शक्तिशाली सेना मानी जाती है। वर्तमान समय में भारतीय सेना के पास आधुनिक तकनीकी से निर्मित कई घातक और खतरनाक राइफल्स मौजूद हैं, जिसका इस्तेमाल भारतीय सेना अपने दुश्मन का सामना करने के लिए करते हैं। दोस्तों अगर बात की जाए शक्ति की तो भारत ताकत के मामले में दुनिया की चौथी सबसे बड़ी शक्ति मानी जाती है। बंदूक एक ऐसा हथियार होता है कि किसी भी युद्ध में दुश्मन को चुनौती देने के लिए अहम भूमिका निभाती है। इसलिए आज हम आप लोगों को उन बंदूकों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनका इस्तेमाल भारतीय सेना करती है।

1- पिस्टल ऑटो 9एमएम 1A

भारतीय सेना की सबसे स्टैंडर्ड गन में से एक पिस्टल ऑटो 9 एमएम मानी जाती है। बता दो भारतीय सेना इस पिस्टल का उपयोग बड़े पैमाने पर करती है। यह पिस्तौल सेल्फ लोडिंग, रिकॉइल ऑपरेटेड और सेमी ऑटोमैटिक पिस्तौल है। इस पिस्तौल में 9×19 पैराबेलम गोलियों का इस्तेमाल होता है। इस गन में अगर एक बार बुलेट्स लोड कर दिया जाए तो यह 13 बार फायर कर सकती है। बता दे यह पिस्तौल पश्चिम बंगाल के इच्छापुर में स्थित राइफल फैक्ट्री में तैयार होती है।

2- एके-103 असॉल्ट राइफल

बता दे यह राइफल एके-74एम का ही विकसित रूप है जिसका इस्तेमाल पुराने राइफल की तरह और ग्रेनेड लॉन्चर की तरह भी किया जा सकता है।

3- एकेएम असॉल्ड राइफल

बता दे यह राइफल AK47 का उन्नत रूप माना जाता है। बता दे सेना के अलावा ये बंदूक पैरामिलिट्री फोर्स, गार्ड, घातक, बीएसएफ और एनएसजी द्वारा भी इस्तेमाल की जाती है। बता दे इस रायफल के द्वारा 1 मिनट में 600 राउंड फायर किया जा सकता है।

4- इनसास असॉल्ट राइफल

दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दें इनसास (इंडियन न्यू स्मॉल आर्म्स सिस्टम) स्टैंडर्ड राइफल भारतीय सेना में बहुत इस्तेमाल किया जाता है। आपको शायद मालूम नहीं होगा इसलिए बता दें कि सबसे पहले इस गन का इस्तेमाल कारगिल युद्ध के समय 1999 में हुआ था।

5- ड्रैग्नोव एसवीडी 59 स्नाइपर राइफल

यह राइफल बहुत ही ज्यादा खास माना जाता है जिसका इस्तेमाल ज्यादातर भारत की मार्को कमांडो करती है। बता दे इस राइफल का भी ऑटोमेटिक और फूली ऑटोमेटिक दोनों रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। इस राइफल के द्वारा भी 1 मिनट में 600 राउंड गोलियां फायर किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *