भारत की कौनसी नदी उल्टी दिशा में बहती है? जानिए इस खबर में

भारत को नदियों का देश कहा जाता है भारत में कई बड़ी बड़ी और लंबी नदियां बहती है। आज हम लोगों को भारत की एक ऐसी नदी के बारे में बताने जा रहे हैं जो उल्टी दिशा में बहती है, जिसके बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं। तो चलिए भारत के उस नदी के बारे में जानते हैं, जो उल्टी दिशा में बहती है।

यह बात आप सभी लोगों को मालूम होगा कि भारत का ढलान पश्चिम दिशा से लेकर पूर्व दिशा की ओर है जिसके कारण भारत की सभी नदियों पर पश्चिम से लेकर पूर्व की ओर बहती हुई बंगाल की खाड़ी में जाकर गिरती हैं। लेकिन आज हम आप लोगों को ऐसी नदी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसका बहाव उल्टा है अर्थात वह उल्टी दिशा में बहती है। यह नदी पूर्व से निकलकर पश्चिम दिशा में बहती है। दोस्तों यह नदी भारत के ढलान के विपरीत उल्टी दिशा में बहती है।

हम जिस नदी के बारे में बात कर रहे हैं वह कोई और नहीं बल्कि नर्मदा नदी है, जिसे मध्य प्रदेश की जीवन रेखा के नाम से जाना जाता है। बता दे यह नदी मध्य प्रदेश राज्य के बिल्कुल बीचो बीच बहती है और इस नदी का उद्गम स्थल अमरकंटक माना जाता है। जो मध्य प्रदेश और गुजरात से बहती हुई खंभात की खाड़ी में जाकर मिल जाती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि यह नदी समुद्र में मिलने से पहले कोई भी डेल्टा नहीं बनाती है बल्कि एस्चुरी बनाती है।

पुराणों में भी नर्मदा नदी का उल्लेख मिलता है। पुराणों के आधार पर नर्मदा नदी को भगवान भोलेनाथ की पुत्री माना गया है। पुराणों में एक नर्मदा पुराण भी मौजूद है, इसलिए नर्मदा नदी को मध्य प्रदेश और गुजरात में गंगा से भी ज्यादा पवित्र माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि जेष्ठ मास में गंगा सप्तमी के दिन गंगा जी स्वयं नर्मदा में स्नान करने मानव रूप में आती हैं।