भारत ने इंटरनेट इस्तेमाल करने के मामले में अमेरिका को पीछे छोड़ा, अब सिर्फ ये देश है आगे

रिलायंस जिओ के सस्ते डाटा पैकेज ने भारत में इंटरनेट की दशा और दिशा दोनों बदल दी है. आज भारत में दुनिया का सबसे सस्ता मोबाइल डाटा उपलब्ध है. पिछले 3 सालों में मोबाइल डाटा की कीमत 94 फ़ीसदी गिरी है. 2016 के अंत में जहां भारत में 21 करोड़ इंटरनेट उपभोक्ता थे. वे 2018 के अंत तक बढ़कर 50 करोड़ के पार हो गए हैं. तो वहीं, डेटा का उपयोग भी 10 गुना बढ़कर हर महीने 8.8 जीबी प्रति यूजर हो गया है.

अमेरिका का हर नागरिक हर महीने औसतन 3GB डाटा का उपयोग करता है. इस लिहाज से भारतीय अमेरिकियों की तुलना में 3 गुना ज्यादा डाटा उपयोग करते हैं.

इंटरनेट यूजर्स की संख्या के मामले में भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा देश बन गया है. इस मामले में चीन भारत से आगे हैं. चीन में करीब 72 करोड़ इंटरनेट यूजर्स हैं.

संयुक्त राष्ट्र संघ की एजेंसी इंटरनेशनल टेलीकम्युनिकेशन यूनियन के अनुसार, पूरे विश्व में इंटरनेट के उपयोग को लेकर एक नई क्रांति शुरू हो गई है. पिछले 3 वर्षों में दुनिया में 72 करोड़ 60 लाख नए इंटरनेट उपभोक्ता बढ़े हैं. इनमें से ज्यादातर गरीब या विकासशील देश से हैं.

इंटरनेट की दुनिया में लोग सबसे ज्यादा वीडियो देखना पसंद करते हैं. 2016 में भारत में सिर्फ 20 यूट्यूब चैनल के 10 लाख सब्सक्राइबर्स थे. आज ऐसे चैनल की संख्या 700 से भी ज्यादा है. इस साल भारतीय यूट्यूब चैनल टी सीरीज 10 करोड़ सब्सक्राइबर अर्जित करने वाला दुनिया का पहला चैनल बन गया.