भारत में शनिवार को हुआ …70 हजार…सीवर के पानी में मिले कोरोना के….

देश भर में 6,97,330 सक्रिय मामले हैं। अब तक अस्पतालों और क्वॉरंटाइन सेंटरों से 22,22,577 मरीजों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। बीते 24 घंटे में 63,631 लोग महामारी से ठीक हुए हैं। रिकवरी दर 74.69 फीसदी है।

सरकार ने कहा कि देश में अब तक जांच किए गए संचयी नमूनों की कुल संख्या 3,44,91,073 है और शुक्रवार को 10,23,836 नमूनों का परीक्षण किया गया है।

सीसीएमबी ने हाल में एक रिपोर्ट जारी की है जिसके अनुसार वायरस के अंश हैदराबार के सीवर के पानी में मिले हैं. लेकिन सीसीएमबी ने ये सर्वे क्यों किया?

राकेश मिश्रा कहते हैं, “सेरोलॉजिकल टेस्ट, रैपिड एंटीजेन टेस्ट या फिर किसी और कोरोना टेस्ट से ही व्यक्ति के संक्रमित होने की जानकारी मिल सकती है. लेकिन इसके लिए आपको प्रत्येक व्यक्ति का सैंपल लेना होता है.”

“लेकिन सीवर के पानी से भी आप वायरस का पता कर सकते हैं, हम इसी की संभावना तलाश कर रहे थे. हम सीवर के पानी में वायरस के अंश देखने में कामयाब हुए और साथ ही ये भी पता लगा सके कि पानी में वायरस की मात्रा कितनी है.”

“इस तरीके का फ़ायदा ये है कि आपको लोगों के पास जाने की बजाय सीवर पा पानी कई बार इकट्ठा कर उसका टेस्ट करना है. इसमें मौजूद वायरस का लोड आपको इस बात का इशारा देगा कि इलाक़े में संक्रमण कितना अधिक है और शहर के इस इलाक़े में वायरस लोड कितना है.”

सीसीएमबी ने अपनी रिसर्च में पाया है कि जिस इलाक़े में सीवर के पानी का टेस्ट किया गया वहां क़रीब छह लाख लोग संक्रमित हो सकते हैं. ये आंकड़ा तेलंगाना सरकार के जारी किए आंकड़ों से मेल नहीं खाते, ऐसे में ये कितना सटीक है?

राकेश मिश्रा कहते हैं, “नहीं सरकार के जारी किए गए आंकड़े अलग नहीं हैं. आप देखिए, सरकार ने 24,000 टेस्ट किए जिनमें से 1,700 लोगों के नतीजे पॉज़िटिव आए हैं. जो टेस्ट किए गए हैं वो रैपिड एंटीजेन टेस्ट हैं जो कम सेन्सिटिव माने जाते हैं. इसका मतलब ये है कि आरटी-पीसीआर टेस्ट का तरीका अपनाया जाता तो टेस्ट का नतीजा शायद 2,000 से 2,400 तक होता.”

“हमारे टेस्टिंग के तरीके से पॉज़िटिव की संख्या कम ही है. हमारी स्टडी के अनुसार दो लाख तक लोग कोरोना संक्रमित हैं यानी ये कुल आबादी का पांच फीसदी है. अगर आप दिल्ली, मुंबई और पुणे में किए गए सेरोलॉजिकल टेस्ट को देखें तो इसमें बीस फीसदी से अधिक संक्रमित पाए गए थे. पुणे में कुछ इलाक़ों में तो पचास फीसदी से अधिक संक्रमित बताए गए थे.”

आंध्र प्रदेश सबसे अधिक प्रभावित राज्यों की सूची में अव्वल है। यहां अब तक 87,803 सक्रिय मामले दर्ज किए गए हैं। राज्य में अब तक महामारी से कुल 2,44,045 लोग ठीक हुए हैं। बीते 24 घंटे में 8,827 मरीज संक्रमण की स्थिति से बाहर आए हैं। इस दौरान 91 लोगों की जानें गई हैं जिसे मिलाते यहां हताहतों की संख्या 3,092 तक पहुंच गई है।

भारत में शनिवार को कोरोनावायरस के 69,878 नए मामले सामने आए हैं जिसके साथ ही यहां संक्रमित मरीजों का कुल आंकड़ा 29,75,701 तक पहुंच गया है।

मंत्रालय ने कहा, बीते 24 घंटे में वायरस से 945 लोगों ने अपनी जानें गंवाई हैं। इसे मिलाकर यहां मरने वालों की कुल संख्या अब तक 55,794 है।

कर्नाटक में सक्रिय मामलों की संख्या 83,082 है। अब तक 1,76,942 बीमारी से उबर चुके हैं जिनमें से 6,561 लोगों को बीते 24 घंटे में अस्पतालों और क्वॉरंटाइन सेंटरों से डिस्चार्ज किया गया है। इसी दौरान 93 नई मौतें दर्ज की गई हैं जिसके साथ ही राज्य में अब तक 4,522 मरीज इस घातक वायरस से अपनी जान गंवा चुके हैं।