मजदूरों को यूपी ले जा रही तीन प्राइवेट बसें सीज, एक ट्रैवल व्यवसायी गिरफ्तार

 लॉकडाउन के दौरान अवैध रूप से मजदूरों को लेकर जाने के आरोप में रविवार की देररात डीएम और एसएसपी ने कार्रवाई करते हुए तीन प्राइवेट बसों को सीज कर दिया। साथ ही एक ट्रैवल व्यवसायी को गिरफ्तार किया है। यह ट्रैवल व्यवसायी निजी बसों में अवैध तरीके से मजदूरों को उत्तर प्रदेश के लखनऊ, इलाहाबाद और पश्चिम बंगाल के कोलकाता लेकर रहा था।इन बसों में तकरीबन 50 से 60 मजदूर परिवार सवार थे। ट्रैवल व्यवसायी ने मजदूरों से पैसे लेने के बावजूद टिकट भी नहीं दिया था। बस से उतारे गये मजदूर परिवारों को सिडकुल थाना पुलिस को सुपुर्द कर दिया गया है।इस मामले में जिलाधिकारी सी रविशंकर ने बताया कि भारत सरकार ने आदेश जारी कर किसी भी राज्य के बॉर्डर से लोगों का आवागमन करने पर प्रतिबंध लगा है। उन्होंने बताया कि उनको लगातार शिकायत मिल रही थी कि हरिद्वार की कई फैक्ट्रियों में काम करने वाले मजदूरों को एक ट्रैवल व्यवसायी निजी बसों के जरिए अवैध रूप से ले जाया रहा है।सूचना पर प्रशासन की टीम ने कार्रवाई कर रविवार की रात तीन बसों को नगर के चंडी चौक रोक लिया। यह प्राइवेट बसों फर्जी तरीके से पास बनाकर यात्रियों को ले जाया जा रहा था। उन्होंने बताया कि पुलिस बस मालिक के खिलाफ मुकदमा हरिद्वार काेतवाली में दर्ज किया गया है। एसएसपी सेंथिल अबुदई कृष्णराज एस ने बताया कि एक ट्रैवल एजेंसी ने गलत पास जारी कर मजदूरों को दूसरे राज्य में लेकर जाया जा रहा था।पुलिस ने तीन बसों को सीज किया है, इन बसों में तकरीबन 50-50 लोग सवार थे। इन लोगों ने लॉकडाउन का उल्लंघन किया है। उन्होंने बताया कि एक ट्रैवल एजेंसी के एक मालिक को भी गिरफ्तार किया है। इसके खिलाफ नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के तहत हरिद्वार कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया है। मजदूरों ने बताया कि सिडकुल की फैक्ट्रियों को लॉकडाउन के चलते बंद कर दिया गया है, जिससे मजदूरों को रहने और खाने में परेशानी हो रही है।इसी के चलते मजदूर अपने घर जाने को विवश हो रहे हैं।
तीन बसों से उतारे गये मजदूरों को सिडकुल थाना पुलिस को सुपुर्द कर निर्देश दिया गया है कि इन मजदूरों को उनकी फैक्ट्रियों में पहुंचाने अथवा कहीं सुरक्षित स्थान पर रोकने और खाने पीने की व्यवस्था करे।