महाराष्ट्र: सरकार का गठन होते ही अपनी जुबान से पलटी कांग्रेस पार्टी, अब सामने रख दिया ये नया प्रस्ताव

महाराष्ट्र में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाले गठबंधन, तीनों दलों के बीच अभी तक सत्ता-साझाकरण में सहमति नहीं बन पाई है। उद्धव के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण के एक दिन बाद, शुक्रवार को डिप्टी सीएम के पद को लेकर सहयोगी दलों के बीच एक नई असहमति पैदा हो गई।

सूत्रों के अनुसार कांग्रेस ने डिप्टी सीएम के पद को लेकर नए सिरे से दावा किया, लेकिन एनसीपी ने इसे मानने से इनकार कर दिया। दरअसल कांग्रेस ने फिर से उपमुख्यमंत्री पद की मांग की जिसे मानने के लिए एनसीपी तैयार नहीं है।

सूत्रों के अनुसार, असहमति के कारण ठाकरे सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार, जो पहले शनिवार को विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के तुरंत बाद होने की उम्मीद थी, को टाल दिया गया है। “ सभी पक्षों के बीच सहमति बन जाने के बाद मंत्रिमंडल का विस्तार हो सकता है।

27 नवंबर को, तीनों सहयोगियों के बीच एक बैठक के बाद, एनसीपी के प्रफुल्ल पटेल ने कहा था कि यह तय किया गया था कि उनकी पार्टी को पांच साल के लिए डिप्टी सीएम का पद मिलेगा, जबकि कांग्रेस को विधानसभा अध्यक्ष पद दिया जा रहा था।

लेकिन शुक्रवार को, कांग्रेस ने संकेत दिया कि वह डिप्टी सीएम के बदले स्पीकर पद नहीं चाहती है। कांग्रेस चाहती है कि उद्धव दो डिप्टी – एक एनसीपी से और दूसरा कांग्रेस से नियुक्त करें।


लेकिन राकांपा कांग्रेस की मांग को पूरा करने के मूड में नहीं है, पवार के भतीजे अजीत, जो डिप्टी सीएम के पद पर हैं, ने मीडियाकर्मियों को बताया कि 27 नवंबर की बैठक में तय किया गया फॉर्मूला अंतिम था। उन्होंने कहा, “यह तय किया गया है कि कांग्रेस को अध्यक्ष पद मिलेगा, जबकि डिप्टी सीएम राकांपा से होंगे,”

इस बात से साफ़ है कि भले ही पार्टियों ने साथ मिल कर सरकार बना ली हो लेकिन विचारों में काफी अंतर है और पार्टियां अभी भी एक सर्वसहमति वाला निर्णय नहीं ले पा रही है। इस से इस सरकार के भविष्य पर एक खतरा उठता दिखाई दे रहा है।