माइनस 26 डिग्री की ठंड में तीन हफ्तों तक अकेला फंसा रहा ये लड़का, ऐसे बच पाई इसकी जान

अमेरिका के अलास्का से एक बेहद हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। 30 साल की उम्र का टायसन स्टील नाम का एक नौजवान अलास्का की जान लेने वाली ठंड में पूरे तीन सप्ताह तक बर्फ की सुरंग में ज़िंदगी की जंग लड़ता रहा। तीन सप्ताह के बाद आखिरकार अलास्का स्टेट ट्रूपर्स ने अपने हैलिकॉप्टर से लड़के की जान बचाई। कहानी शुरू होती है कुछ महीनों पहले से।
टायसन का परिवार अमेरिका के यूटाह में रहता है। लेकिन टायसन पिछले कई सालों से परिवार से दूर अलास्का के इस बेहद ठंडे और वीरान इलाके में अकेले एक लकड़ी के झोपड़ीनुमा मकान में अकेले रह रहे थे। टायसन के साथ उनका चॉकलेट लैब्राडोर नस्ल का उनका कुत्ता पिट भी साथ रह रहा था।
जिस कमान में टायसन अपने कुत्ते के साथ रह रहे थे वो पूरा लकड़ी का बना था। एक दिन अचानक गलती से टायसन ने उस झोपड़ी में गैस पर गलती से एक बड़ा कार्डबोर्ड का टुकड़ा रख दिया। टायसन को उस कार्डबोर्ड के टुकड़े को भूल गए और सो गए। आधी रात को जब उन्हें जलने की बू आई तो उनकी आंखें खुली। उन्होंने देखा कि झोपड़ी में हर तरफ धुंआ फैल रहा है और झोंपड़ी की छत पर लगी प्लास्टिक पिघलकर टपकने लगी है।
टायसन तुरंत झोंपड़ी से बाहर निकलकर भागे। बर्फ फेंककर उन्होंने आग को बुझाने की कोशिश की। टायसन को लगा कि उनका कुत्ता आग से बचकर भागकर बाहर आ गया होगा। लेकिन थोड़ी देर बाद उन्होंने कुत्ते के ज़ोर-ज़ोर से कराहने की आवाज़ सुनी। टायसन बदहवास होकर मकान पर बर्फ फेंकने लगे। लेकिन कुत्ते की जान नहीं बच सकी।
टायसन ने अलास्का स्टेट ट्रूपर्स को बताया कि अपने कुत्ते को अपनी आंखों के सामने जलते देखकर उन्हें बेहद तकलीफ हुई। वो बेहद ज़ोर से चिल्लाए। टायसन ने बताया कि वो इतना ज़ोर से चिल्लाए कि एक बार तो उन्हें लगा कि कहीं उनके फेंफड़े ना फट जाएं।
टायसन अभ भी उस जले हुए मकान पर बर्फ फेंककर आग बुझाने की कोशिश कर रहे थे। लेकिन तभी घर में रखा प्रोपेन सिलेंडर फट गया और उसके चीथड़े उड़ गए। जिस जगह पर टायसन की वो झोपड़ी थी वहां से सबसे नज़दीकी बस्ती भी तीस किलोमीटर दूर थी। जानलेवा ठंड में उनका कहीं पैदल जाना मौत को दावत देने जैसा था। टायसन के पास मैप भी नहीं था। इसलिए उन्होंने जली हुई झोंपड़ी में बच गई कुछ बल्लियां निकाली और वहीं पर बर्फ में एक सुरंग खोदी और महज़ कुछ चादरों और कुछ स्लीपिंग बैग्स की मदद से खुद को ज़िंदा रखा।टायसन ने झोपड़ी के पूरी तरह से जलने से पहले खाने के कुछ कैन निकाल लिए थे। उन्हीं को खाकर टायसन इतने दिनों तक ज़िंदा रहे थे। टायसन ने बताया कि उनके पास लगभग एक महीने का खाना बच गया था। जिस जगह टायसन ने अपने लिए वो बर्फ की सुरंग बनाई थी उसके पास ही उन्होंने बड़े आकार में sos लिख दिया था जिसका मतलब होता है मदद की ज़रूरत। टायसन ने बताया कि पिछले तीन हफ्तों से वो अपने घर पर कोई बात नहीं कर पाए थे। उनका मोबाइल भी झोपड़ी के साथ ही जल गया था। उन्हें मालूम था कि इतने दिन बात ना होने पर उनके घरवाले ज़रूर परेशान होकर स्थानीय प्रशासन से मदद की गुहार लगाएंगे। इसलिए उन्होंने बड़े आकार में sos लिखा था।टायसन का अंदाज़ा एकदम सही निकला। तीन हफ्तों तक टायसन से बात ना होने के कारण उसके घरवालों ने स्थानीय प्रशासन से मदद मांगी और प्रशासन ने टायसन की खोजबीन शुरू की। हैलिकॉप्टर की मदद से अलास्का स्टेट ट्रूपर्स ने टायसन को ढूंढ लिया और वहां से सुरक्षित निकाल लाए।अलास्का ट्रूपर्स टायसन को एक मैकडोनल्ड्स में खाना खिलाने ले गए। वहां टायसन ने बताया कि वो अब अपने माता-पिता के घर पास वापस सॉल्ट लेक सिटी जाएगा। उनके पास एक कुत्ता है और अपने कुत्ते को खो देने के बाद उनके लिए वहां उस कुत्ते के साथ रहना एक प्रकार की थैरेपी ही होगी।