मीठे के लिए चीनी की जगह इस्तेमाल करें ये 5 ऑप्शन, जान लें इनके नाम

सफेद चीनी (White Sugar) से तैयार किसी भी चीज का मतलब है, हाई ब्लड प्रेशर लेवल, ज्यादा कैलोरी और जीरो न्यूट्रिटिव वैल्यू.

क्या आप उस कैलोरी के बारे में जानते हैं जो मीठा खाने से आपके अंदर जा रहा है.

क्या आप घर पर बने नींबू पानी (Lemon Water) या छाछ (Butter Milk) की बजाय अपनी प्यास बुझाने के लिए डिब्बाबंद जूस (Juice) या ड्रिंक का सेवन करते हैं. क्या आपके फ्रिज में ताज़े फलों के बजाय कप केक, पेस्ट्री, कुकीज और क्रीम रोल मौजूद हैं. क्या आप उनमें से एक हैं जिसका खाना बिना गुलाब जामुन या आइसक्रीम के पूरा नहीं होता है. भारत में ‘मुंह मीठा’ कराना बहुत जरूरी है. चाहे खुशी का मौका हो या कोई सेलिब्रेशन हो सबसे सबसे पहले मीठा इस्तेमाल किया जाता है. हालांकि, क्या आप उस कैलोरी के बारे में जानते हैं जो मीठा खाने से आपके अंदर जा रहा है. सफेद चीनी (White Sugar) से तैयार किसी भी चीज का मतलब है, हाई ब्लड प्रेशर लेवल, ज्यादा कैलोरी और जीरो न्यूट्रिटिव वैल्यू. इसके परिणामस्वरूप व्यक्ति का धीरे-धीरे वजन बढ़ना, सिर दर्द, दिल की बीमारी, दांतों और कैविटी जैसी समस्या शुरू हो सकती है. यह आगे चलकर बड़ी स्वास्थ्य समस्याओं जैसे कि ओरल हेल्थ डायबिटीज और कैंसर जैसी घातक बीमारी में भी बदल सकती है. आपके लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि आप क्या खा रहे हैं. यहां पर चीनी के कुछ विकल्प हैं, जो आपको आपकी पसंद का बनाने की जानकरी दे सकते हैं.

सफेद चीनी की जगह इस्तेमाल करें ये 5 विकल्प-

शहद

शहद का उपयोग प्राचीन काल से ही पोषण चिकित्सा और औषधीय कार्यों के लिए किया जाता रहा है. इसमें फ्रुक्टोज हाई लेवल में पाया जाता है. यह रिफाइन शुगर की तुलना में अधिक मीठा होता हैं जिसका स्पष्ट रूप से मतलब है कि एक ही डिश के लिए शहद की कम मात्रा की आवश्यकता होती है. शहद को चाय के साथ मिलाया जा सकता है, इसे टोस्ट पर फैलाया जा सकता है. शहद में फ्लेवोनोइड होते हैं जिसका अर्थ है कि यह एंटीऑक्सिडेंट से भरा हुआ है और इसमें कई एंटी-वायरल और एंटी-बैक्टीरियल गुण हैं. हालांकि यह डायबिटीज के रोगियों के लिए एक अच्छा विकल्प नहीं हो सकता है क्योंकि यह ब्लड शुगर के लेवल को बढ़ाता है.

डेट शुगर
सूखे खजूर से शुगर को प्राप्त किया जा सकता है जिसे बाद में उन्हें कणिकाओं में बदलने के लिए डाला जाता है. यह एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होने के साथ-साथ फाइबर के गुणों से भरपूर माने जाते हैं. इसकी अद्भुत बाइंडिंग और सम्मिश्रण गुणों के कारण, खजूर शुगर को स्मूथी के साथ-साथ कुकीज़ के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है. आपके बेक और केक के लिए, खजूर का सिरप एक बेहद स्वादिष्ट विकल्प हो सकता है.

कोकोनट शुगर

नारियल को हथेली पर रख कर एक कट बनाया जाता है. जिसे आगे वाष्पीकरण के लिए छोड़ दिया जाता है. इस प्रक्रिया के बाद, एक क्रिस्टलीकृत पदार्थ वापस छोड़ दिया जाता है जिससे बाद में कोकोनट शुगर बनाया जाता है. इस प्राकृतिक मिठास के बारे में एक बड़ी बात यह है कि यह मुख्य पकवान में अपनी बनावट और स्वाद जोड़ता है. इसे चाय या कॉफी में इस्तेमाल किया जा सकता है, या वेफल या पैनकेक के ऊपर छिड़का जाता है, या मसालेदार करी में भी मिलाया जाता है. यह अर्टीफिशल शुगर एक अच्छा विक्लप हो सकता है, क्योंकि इसमें कोकोनट के पोषक तत्व भरपूर होते हैं. इसमें इंसुलिन फाइबर की उपस्थिति होती है जिसके कारण यह आंत के स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा माना जाता है.

अंजीर
अंजीर में बहुत सरल कार्बोहाइड्रेट पाए जाते हैं जिन्हें बहुत आसानी से तोड़ा जा सकता है. इसका मतलब है कि यह इंसुलिन के लेवल को नहीं बढ़ाता. अंजीर को आप पांच तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं. अंजीर हलवा, अंजीर के लड्डू और अंजीर बिस्कुट और इसे आप त्योहारों और छुट्टी के समय बना सकते हैं. इन्हें पानी में भिगोएं और एक प्यूरी में परिवर्तित करें. ये हड्डियों के हेल्थ, ब्लड हेल्थ और पाचन तंत्र के लिए अच्छे माने जाते हैं.

गुड़
हम सभी जानते हैं कि गुड़ गन्ने से प्राप्त चीनी विकल्प का एक प्राकृतिक रूप है. इसके अनरिफाइन होने के कारण इसमें आवश्यक विटामिन, खनिज, आयरन और एंटीऑक्सीडेंट का एक पॉपरहाउस माना जाता है. भोजन के बाद गुड़ का एक छोटा टुकड़ा आपके पाचन एंजाइम को सक्रिय करता है. यह एनीमिक रोगियों के लिए बहुत अच्छा माना जाता है. ये शरीर में हीमोग्लोबिन के लेवल को बढ़ाने का काम कर सकता है. गुड़ से गुड़ का हलवा, गुड़ की रोटियां, गुड़ के लड्डू और चीकू जैसे कई व्यंजन बनाए जा सकते हैं. गुड़ को खासतौर पर सर्दियों के मौसम में अधिक फायदेमंद माना जाता है. क्योंकि यह जादूई तरीके से खांसी, सर्दी और फ्लू के प्रभाव को कम कर सकता है.