मुरादाबादः यूपी पुलिस के विज्ञापन में दिख रही महिला पर युवक का दावा- ये मेरी गुमशुदा मां

यूपी पुलिस के विज्ञापन में दिख रही बुजुर्ग महिला को लेकर विवाद बढ़ा

उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा शुरू की गई सवेरा योजना के विज्ञापन में छपी बुज़ुर्ग महिला की तस्वीर को देखकर मुरादाबाद के एक युवक ने बुजुर्ग महिला को अपनी गुमशुदा मां बताकर पुलिस विभाग में हड़कंप मचा दिया है. युवक का दावा है कि विज्ञापन में छपी तस्वीर उसकी गुमशुदा मां सीता देवी की है जो 13 नवंबर 2019 से लापता हैं, जिनकी गुमशदगी की रिपोर्ट भी मुरादाबाद के थाना मझोला में दर्ज है.

युवक के दावे के बाद इस पुलिस के सरकारी विज्ञापन में छपी वृद्ध महिला की तस्वीर को लेकर मुरादाबाद पुलिस में हड़कंप मच गया है और 31 दिसंबर को जारी हुए इस विज्ञापन की जांच शुरू कर दी गई है. मुरादाबाद के पुलिस अधिकारी के अनुसार मुख्यालय को भी सूचना दे दी गई है और तथ्यों के आधार पर कार्रवाई की जाएगी.

पुलिस से मां का पता बताने की मांग

मुरादाबाद के थाना मझोला क्षेत्र में खुशहालपुर की बैंक कॉलोनी में रहने वाले बलराम का दावा है कि 31 दिसंबर 2020 को उत्तर प्रदेश पुलिस की सरकारी सवेरा योजना का जो विज्ञापन अखबारों में छपा, उसमें डायल 112 के तहत वृद्धजनों की मदद करने की जानकारी है, लेकिन इस विज्ञापन में जिस वृद्धा की तस्वीर छपी है वह उसकी मां सीता देवी हैं.

बलराम सिंह का दावा- विज्ञापन में दिख रही महिला मेरी मां
बलराम सिंह का दावा- विज्ञापन में दिख रही महिला मेरी मां

बलराम सिंह का दावा है कि उसकी मां सीता देवी 13 नवंबर 2019 से लापता हो गई थीं जिनकी गुमशुदगी थाना मझोला में भी दर्ज है, लेकिन वो आज भी पुलिस थाने के चक्कर काट रहा है. अखबार में विज्ञापन देखकर बलराम को इस बात की खुशी हुई कि उसकी गुमशुदा मां जिंदा है. वह अपनी मां को तलाश कर थक चुका है. अब विज्ञापन में मां की तस्वीर होने का दावा करते हुए पुलिस से मां का पता बताने की मांग कर रहा है.

बलराम की पत्नी का भी दावा है कि लगभग एक साल से उनकी सास लापता हैं. ननद ने 31 दिसंबर को अखबार में छपी तस्वीर दिखाई थी कि ये मम्मी की तरह लग रही है. अब मेरे पति रोज थाने जा रहे हैं, हम बस ये चाहते हैं कि वो हमें मिल जाएं.

गुमशुदा मां और विज्ञापन में दिख रही महिला की तस्वीर
गुमशुदा मां और विज्ञापन में दिख रही महिला की तस्वीर

बलराम ने कहा, ‘मैंने 31 तारीख को अखबार में मम्मी का एड देखा. मुझे लगा और मुझे 100 प्रतिशत लग रहा है कि वो मेरी मम्मी हैं. पहले मैं पुलिस चौकी गया फिर थाने भी गया. थाने में उन्होंने मुझे नंबर दे दिया और मेरी मम्मी की फोटो भी नहीं देखी. मुझसे ये भी कहा कि नंबर दे रहे हैं. इस पर बात कर लेना.’ उन्होंने कहा, ‘दरोगा ने फोन करके कहा कि मैं बुला रहा हूं आप आ जाना. मैं गया तो वहां पर कोई भी नहीं था. मैं तो बस यह चाहता हूं कि यह विज्ञापन जहां से भी दिया गया है जिसने भी लिया है उसका पता दे दीजिए. मैं खुद जाकर ढूंढ़कर लेकर आऊंगा. मैं मां की तलाश में कई जगह गया लेकिन वो नहीं मिलीं.’

देखें: आजतक LIVE TV
 
दूसरी ओर, बलराम की पत्नी का कहना है कि एक साल हो गया. हमारी ननद ने 31 तारीख को छपे अखबार देते हुए कहा कि यह मम्मी की तरह लग रही हैं तो हमने कहा चलो हम थाने गए तो थाने वालों ने नंबर दे दिया. हमें पुलिस वाले तो कुछ नहीं बता रहे वो तो ऐसे ही टाल रहे हैं.

विज्ञापन का यह मामला अब सुर्खियों में आ चुका हैं क्योंकि पुलिस के सरकारी विज्ञापन में छपी वृद्ध महिला की तस्वीर को लेकर मुरादाबाद में सवाल खड़ा हो गया है. इस पूरे प्रकरण पर मुरादाबाद के एसपी सिटी अमित आनंद ने कहा कि ये यूपी 112 का सवेरा प्रोजेक्ट के अंतर्गत एक विज्ञापन प्रकाशित हुआ था उसमें जो वृद्ध महिला की फोटो है उसे देखकर थाना मझोला क्षेत्र में रहने वाले एक युवक ने सूचना दी है कि इनकी शक्ल उनकी मां से मिलती है जिसकी गुमशुदगी भी 2019 में पंजीकृत है तो इसमें जांच की जा रही है. मुख्यालय को भी अवगत करा दिया गया है और इसमें जो भी तथ्य सामने आएंगे उसके अनुसार विधिक कार्रवाई करेंगे.