मौत के 7 महीने बाद वायरल हुआ सुशांत का लिखा लेटर, आखिरी समय तक था बस एक बात का पछतावा

Sushant Singh Rajput Suicide case After 7 month  of death Now Handwritten letter going viral shared by Sister Shweta Singh kirti KPY

मुंबई. सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड को 7 महीने हो चले हैं, लेकिन उनकी मौत की गुत्थी अब तक सुलझ नहीं पाई है। अब ये केस सुसाइड से ड्रग्स केस में उलझ गया है। ऐसे में अब एक्टर के हाथ का लिखा लेटर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। उसे किसी और ने नहीं बल्कि उनक बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने शेयर किया है। इसमें दिवंगत एक्टर ने अपनी 30 साल की जिंदगी के बारे में बात की है। इसे शेयर करने के साथ ही श्वेता ने लिखा, ‘भाई द्वारा लिका गया। यह सोच बहुत ही गहरी है।’

सुशांत ने लिखी है ये सब बातें

सुशांत की बहन द्वारा शेयर किया गया भाई के लेटर में लिखा गया है कि ‘उन्हें लगता है कि उन्होंने जिंदगी के 30 साल खर्च कर दिए हैं। पिछले 30 साल कुछ बनने की कोशिश में। वो हर चीज में अच्छा बनना चाहते थे। वो टैनिस, स्कल और ग्रेड्स में अच्छा बनना चाहते थे और उन्होंने हर चीज को उसी नजरिए से देखा। वो खुद को ठीक नहीं बताते हैं। लेकिन, अगर उन्हें चीजें अच्छी मिलीं तो एहसास हुआ कि खेल ही गलत था। क्योंकि पूरा खेल तो उस को तलाशे का था, जो कि पहले से हो रहा था।’

7 महीने पहले किया था सुसाइड 

सुशांत सिंह राजपूत ने 7 महीने पहले 14 जून को सुसाइड कर लिया था। बांद्रा स्थित उनके फ्लैट में पंखे से लटकी उनकी लाश मिली थी। उनकी मौत के बाद CBI, ED, NCB, मुंबई पुलिस औ बिहार पुलिस ने इस मामले की जांच की तो इसमें ना एंगल निकल आया। इस वजह से अभी तक पुलिस इस मामले को लेकर किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई है। ड्रग्स एंगल आने के बाद दिवंगत एक्टर की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती को एक महीने तक जेल में रहना पड़ा था। उनके भाई को भी 3 महीने तक सलाखों के पीछे रहना पड़ा था। 

दोस्त ने मोहन भागवत से मिलने के लिए मांगी मदद

इस बीच सुशांत के लिए इंसाफ की मांग कर रहे उनके दोस्त गणेश हिवरकर ने सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे से मुलाकात की। मुलाकाuत की फोटो शेयर करते हुए गणेश ने सोशल मीडिया पर लिखा था कि वो पिछले 3 महीने से आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से मिलने की कोशिश कर रहे हैं, अगर कोई उनकी मदद कर सकता है आगे बढ़े। इसके अलावा गणेश ने लेटर लिखकर ही सुशांत की मौत के बारे में बताया है।