ये 5 चीजें बहुत तेज भूख लगने पर नहीं खानी चाहिए, जानें इसके पीछे की वजह

अक्सर लोग तेज भूख की वजह से कुछ भी खा लेते हैं। दरअसल जब भूख लगती है तो उस समय दिमाग नहीं चलता है और उस समय पूरा ध्यान खाने में होता है। लेकिन आपको इस बात का जरूर ध्यान रखना चाहिए कि भूख के समय हमारे लिए क्या सेहतमंद है क्या नुकसानदायक है। 
कई ऐसी हेल्दी चीजें हैं जो खाली पेट खाने से फायदा की जगह नुकसान पहुंचा देती हैं। चलिए आपको उन चीजों के बारे में डिटेल से बताते हैं कि किस तरह से वह हमारे स्वास्‍थ्य के प्रति नुकसान दायक होती हैं।
अधिकतर लोगों को कंफ्यूजन होती है खाली पेट की स्थिति को लेकर। खाली पेट की कंडीशन आखिर कौन सी होती है….हमें जब बहुत तेज भूख लगी हो या सुबह से कुछ हमने जब नहीं खाया हो?खाली पेट का अर्थ दिन की शुरुआत के फर्स्ट मील से होता है। इसका मतलब यह होता है कि आपने इससे पहले कुछ नहीं खाया है। अमरूद
अमरूद ऐसा फल है जो अलग-अलग स्थिति में खाने पर अलग परिणाम देता है। अगर अमरूद आप सुबह खाली पेट सर्दियों में खाते हैं तो उससे पेट की समस्या हो जाती है। अगर आप अमरूद गर्मी में खाली पेट खाते हैं तो यह फायदेमंद होता है। 
अमरूद खाते समय मौसम का ध्यान तो रखना चाहिए इसके अलावा एक बात पर भी ध्यान देना होता है कि कभी भी पानी अमरूद खाने का साथ नहीं पीना चाहिए। इससे पेट में दर्द या अपच की परेशानी हो जाएगी। इतना ही नहीं पानी किसी भी फल को खाने के बाद नहीं पीना चाहिए।  सेब
अगर आप खाली पेट सेब का सेवन सर्दियों में करते हैं तो इससे बीपी बढ़ सकता है। अगर आप सर्दियों में सुबह सेब सबसे पहले खाते हैं तो इससे समस्या पैदा हो सकती है। वहीं अगर आप सेब खाली पेट गर्मियों में खा रहे हैं तो फायदा होता है। लेकिन एक बात का ध्यान रखना है कि सेब खाते समय आपके पेट और सीने में तेज जलन ना हो।दही
दही पर भी मौसम वाली कंडीशन अप्लाई होती है। खाली पेट दही का सेवन सर्दियों में नहीं करना चाहिए। हालांकि दही आप गर्मियों में खाली पेट खा सकते हैं। कुछ लोग मानते हैं कि दही खाली पेट खाने से नींद अच्छी आती या बीपी लो होता है। लेकिन आपको बता दें कि आप बिल्कुल गलत हैं।
अगर कोई गर्मी के मौसम में खाली पेट दही खाता है और उसका बीपी लो हो जाता है तो इसका यह मतलब होता है कि बीपी आपको पहले से ही कम था और दही खाने के बाद आपकी यह परेशानी उभरकर आई है। अगर दही खाने के बाद किसी को नींद आ जाती है तो इसका मतलब है कि उनका पाचनतंत्र धीरे काम करता है और पाचन क्रिया भी सही नहीं है। टमाटर 
टमाटर की तासीर गर्म होती है तो आप इसे सर्दियों में ही खाली पेट खा सकते हैं। लेकिन टमाटर को गर्मियों में खाने से पेट में या सीने में जलन की दिक्कत हो सकती है। ध्यान रखें इस बात का
अगर आप खाली पेट रोजाना सर्दियों में टमाटर खाते हैं या टमाटर का जूस पीते हैं तो इससे बाल झड़ने की समस्या उत्पन्न हो जाती है। अगर आपको टमाटर का टेस्ट करना है तो आप खाली पेट टमाटर का सेवन कर सकते हैं या टमाटर का सूप, जूस ले सकते हैं लेकिन कभी भी टमाटर नियमित तौर पर खएं।साइट्रस फ्रूट्स
कंडीशन मौसम के हिसाब से बदलती हैं। जैसे इन चीजों को जाड़ांे में खाने से नुकसान होता है। अम्ल और क्षार यानी एसिड और बेस से हमारा पाचन क्रिया पर आधारित होती है। शीतलता साइट्रिक फ्रूट का स्वभाविक गुण है। साइट्रिक फ्रूट्स को खाली पेट सर्दियों में खाने से अपर रेस्पाइरेट्री टैक्ट की बीमारियां उत्पन्न हो जाती हैं। सूखी ,खांसी, जुकाम, गले में दर्द यह बीमारियां इन फ्रूट्स को खाने से हो सकती है। यह असर होगा गर्मियों में
इन फलों को अगर आप गर्मियों में खाली पेट खाते हैं तो बहुत लाभ मिलता है। यह फल आमतौर पर रसभरे होते हैं और शरीर में पानी की कमी गर्मियों के मौसम में यह होने नहीं देते। गर्मियों में इन फलों के खाने से डिहाइड्रेशन से भी बचाव होता है। 
अगर आपको भूख लग रही है तो फल ना खाएं। लेकिन अगर खाने का कोई ऑप्‍शन आपके पास नहीं है तो आप फल खाते समय छोटी बाइट्स लें और पूरी तरह चबाकर इन फलों को खाएं। ऐसे चबाकर खाएं जिससे उसका पूरा रस आपके मुंह में ही बना रहे। ऐसे फल खाने से आपको फल का न्यूट्रिशन पूरा मिलेगा लेकिन पेट से संबंधी परेशानियां नहीं होंगी।जल्दी-जल्दी फल खाली पेट खाने का यह होता है असर
अगर आप केला खाली पेट खा लेते हैं तो उससे आपका पेट गुम हो सकता है। इसका मतलब पेट की वायु का अनुलोमन यानी गैस पास होना रूक सकता है और पेट फूलने की परेशानी हो जाती है। इससे पेट में दर्द रहता है।