राममंदिर पर हलचल हुई तेज, सभी पुलिसवालों की छुट्टियां रद्द

आयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी ही चुकी है अब बस फैसला आना बाकी है फैसले की तारीख जैसे जैस नजदीक आ रही है। प्रशासन और सख्त होता जा रहा है। राज्य में दंगे की कोई स्थिति निर्मित न हो इसके लिए विशेष प्रवधान किये जा रहे है. फैसले के मद्देनजर मध्य प्रदेश पुलिस के जवानों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं. ये आदेश शुक्रवार से ही लागू हुआ है. छुट्टियां रद्द करने का फैसला मिलाद उन नबी , गुरु नानक जयंती और अयोध्या पर फैसले को ध्यान में रखते हुए लिया गया है. सरकार ने कहा है की राज्य में शांति-सौहार्द और कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए यह फैसला लिया गया.

मध्य प्रदेश पुलिस मुख्यालय की ओर से सभी पुलिस अधीक्षकों एवं अन्य अधिकारियों को शुक्रवार को जारी परिपत्र में कहा गया है, ”नवंबर माह में पड़ने वाले त्योहारों मिलाद-उन-नबी और गुरुनानक जयंती, अयोध्या प्रकरण पर शीर्ष अदालत के संभावित निर्णय के आलोक में सांप्रदायिक सौहार्द एवं कानून व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए एक नवंबर 2019 से आगामी आदेश तक समस्त पुलिस अधिकारियों एवं कर्मियों के अवकाश पर प्रतिबंध लगाया जाता है।” इसमें आगे कहा गया है कि इस अवधि में अपरिहार्य परिस्थितियों में आवश्यकता होने पर संबंधित पुलिस अधीक्षक/जोनल पुलिस महानिरीक्षक सीमित अवधि हेतु अवकाश स्वीकृत कर सकेंगे। वरिष्ठ स्तर पर आवश्यकता होने पर पुलिस महानिदेशक के अनुमोदन उपरांत अवकाश स्वीकृत होंगे।

वहीं, भारत और बांग्लादेश के बीच पहला टेस्ट मैच 14 नवंबर से 18 नवंबर तक इंदौर के होलकर स्टेडियम में खेला जाएगा. इसी दौरान 17 नवंबर तक अयोध्या मामले में फैसला आने की पूरी उम्मीद है. ऐसे में मैच बहुत ही संवेदनशील समय में हो रहा है, इसलिए टेस्ट मैच के दौरान भी होल्कर स्टेडियम के आसपास अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती की जायेगी। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने फील्ड में तैनात सभी अफसरों की छुट्टियां पहले से ही 30 नवंबर तक रद्द कर दी है. इसके अलावा अयोध्या में 10 दिसंबर तक के लिए धारा 144 भी लागू है.