रूस दागेगा खतरनाक परमाणु मिसाइल, तबाह हो सकता है फ्रांस, दुनिया में खलबली

रूस की यह खतरनाक मिसाइल पूरे फ्रांस को तबाह कर सकती है। अब इसी से इसकी क्षमता का अंदाजा लगाया सकता है। रूस की इस अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल का नाम RS-18 सरमत है। नाटो देश इस किलर मिसाइल को शैतान-2 (Satan 2) के नाम से बुलाते हैं।

Putin
रूस दागेगा खतरनाक परमाणु मिसाइल, तबाह हो सकता है फ्रांस, दुनिया में खलबली

नई दिल्ली: कोरोना संकट के बीच दुनिया में युद्ध का खतरा बढ़ता जा रहा है। अब इस बीच रूस ने एक ऐसा फैसला लिया है जिसके बाद दुनिया में हलचल बढ़ गई है। रूस नई महाविनाशक मिसाइल दागने जा रहा है। रूस के इस परीक्षण के बाद अमेरिका और यूरोपीय देशों के साथ और तनाव बढ़ने की आशंका है। रूस की यह महाविनाशक मिसाइल 10 हजार किमी तक मार करने में सक्षम है।

रूस की यह खतरनाक मिसाइल पूरे फ्रांस को तबाह कर सकती है। अब इसी से इसकी क्षमता का अंदाजा लगाया सकता है। रूस की इस अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल का नाम RS-18 सरमत है। नाटो देश इस किलर मिसाइल को शैतान-2 (Satan 2) के नाम से बुलाते हैं। रूस के डिफेंस चीफ ने दावा किया है कि यह दुनिया की अब तक की सबसे शक्तिशाली मिसाइल होगी।

10 हजार किमी तक मार कर सकती है मिसाइल

रूस आरएस-18 मिसाइल से एक विशाल थर्मोन्‍यूक्लियर बम या 16 छोटे परमाणु बम फिट इस मिसाइल से हमला कर सकता है। रूसी रक्षा मंत्रालय का कहना है कि इस मिसाइल में इतनी क्षमता है कि दुश्‍मन के एयर डिफेंस सिस्‍टम को बर्बाद कर सकती है। 100 टन वजन वाली यह मिसाइल 10 हजार किमी तक मार करने में सक्षम है। इसके एक हमले से पूरा फ्रांस तबाह हो सकता है।

satan missile

इस मिसाइल की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसका एक-एक हमला अलग-अलग लक्ष्‍य को तबाह कर सकता है। आरएस-18 मिसाइल सोवियत डिजाइन पर आधारित एसएस-18 का स्थान लेगी। एसएस-18 दुनिया की सबसे भारी अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल है।

2022 तक रूस के स्‍ट्रेटजिक मिसाइल फोर्स में होगी शाम‍िल

अब रूस से इस मिसाइल का परीक्षण करने का फैसला लिया है। रूस सरमत मिसाइल का कई बार परीक्षण का टाल चुका है, लेकिन अब रूसी अधिकारी ने दावा किया बै कि इस मिसाइल को साल 2022 तक रूस के स्‍ट्रेटजिक मिसाइल फोर्स में शाम‍िल किया जाएगा।

Russia

रूस के उपरक्षा मंत्री अलेक्‍सी क्रिवोरुचको के हावले रूसी सेना के अखबार ने कहा है कि आरएस-18 मिसाइल का कभी भी परीक्षण हो सकता है।रूस के उप रक्षामंत्री का दावा है कि यह मिसाइल इतनी खतरनाक है कि कोई भी मिसाइल डिफेंस हथियार इसका रास्त नहीं रोक सकती।