वास्तु: आज ही सुधार लें ये आदतें वरना…

अक्सर लोगों को कहते सुना होगा कि कई बार जीवन में केवल परेशानियां ही परेशानियां रहती हैं। कई लोग तो इससे हताश होकर जिंदगी जीने की इच्छा ही छोड़ देते हैं। परंतु अगर इसके विपरीत अगर आप इन परेशआनियों  के असली कारण को जानने में लगेंगे तो आपका फायदा होगा। जी हां, क्योंकि आप इन परेशानियां का कारण ज़रूरी नहीं हमेशा आप ही होंगे। कई बार इसका कारण होता है आपके जीवन का वास्तु दोष जो आप ही की कुछ गलतियों के चलते पैदा होते है। वास्तु शास्त्र की मानें तो प्रत्येक व्यक्ति में कुछ ऐसी आदतें होती हैं जो उसके जीवन में कब वास्तु दोष पैदा कर दें उसे पता ही नहीं चलता। अब जीवन में वास्तु दोष होगा तो ज़ाहिर सी बात है मुसीबतें तो आएंगी। तो क्या आप जानना चाहेेंगे कि वौ कौन सी आदते हैं जो आपके हंसते-खेलते जीवन को तबाह कर सकती हैं। आइए बताते हैं आपको इन आदतों के बारे में- हाथों के लंबे नाख़ून
कहा जाता है इंसान के शरीर की उंगलियों से लगातार ऊर्जा एक निकलती है ऐसे में लंबें नाख़ून रखने पर उनमें थोड़ी बहुत गंदगी रहती है जिस कारण शरीर से निकलने वाली ऊर्जा नकारात्मकता को आकर्षित करने लगती है। और इसी ऊर्जा के चलते लाइफ में मुश्किलें आने लगती हैं। 
 
मिठाई लेकर घूमना
वास्तु शास्त्र के अनुसार मिठाई की तरफ़ नैगेटिव ऊर्जाएं खास रूप से आकर्षित होती हैं। इसलिए ऐसा कहा जाता है कि बिना झूठा किए सुनसान इलाकों व गंदी जगहों पर मीठा लेकर नहीं घूमना चाहिए। इससे वास्तु दोष उत्पन्न होते हैं।  रात को इत्र लगाना
वास्तु के मुताबिक जो लोग रात के समय इत्र लगाकर सोते हैं उनकी तरफ़ नकारात्मक शक्तियां अधिक आकर्षित होती हैं और ये शक्तियों उनको अपनी गिरफ्त में लेने का प्रयास करती हैं। गंदे कपड़े पहनना
शास्त्रों के अनुसार साफ़ कपड़े पहनने से देवता प्रसन्न होते हैं तो वहीं गंदे व अशुद्ध कपड़े पहनने से जीवन में नकारत्मक शक्तियां आकर्षित होती हैं और लाइफ में परेशानियां पैदा होती हैं। 
 
झूठे बर्तन रखना
कुठ महिलाओं को रात के समय रोसई में झूठे बर्तन रखने की आदत होती है। ऐसा कहा जाता है इनमें छोटे-छोटे बैक्टिरिया जन्म लेते हैं। जिस कारण घर में नकारात्मकता निवास करने लगती है और जीवन में अचानक से गरीबी पैदा हो जाती है।  बाल खुले रखकर घूमना
आज कल के फैशन के चलते लड़कियां ज्यादातर बाल खुले रखने लगी है। मगर कुछ लड़कियां व महिलाएं रात के समटय भी खुल बाल रख कर सोने लगी हैं। जो वास्तु की दृष्टि से अच्छा नहीं माना जाता है। अगर हिंदू धर्म के ग्रंथों की बात करे तो स्त्रियों का किसी विशेष शुभ मौके पर बाल खुले रखना अच्छा माना गया है, लेकिन रोज़ाना ऐसा करने पर नकारात्मकत ऊर्जा हावी हो सकती है। खासतौर पर जब चंद्रमा की कलाएं घटती हैं, तब मन अधिक भावुक होता है।