वास्तु शास्त्र के इन उपायों को अपनाएं, आप रहेंगे खुशहाल

वास्तु शास्त्र के अनुसार आप अपना घर बनाते समय वास्तु के कुछ टिप्स यानि के आप वास्तु शास्त्र के अनुसार अपना घर बनाते हैं तो आपका जीवन खुशहाल रहता है। और ऐसा माना जाता है कि अगर आपके घर में किसी भी कारण से वास्तु दोष उत्पन्न हो गया है तो आपके जीवन में कठिनाईयों का बसेरा हो जाता है और आपका जीवन बर्बाद हो जाता है। इसलिए आप जब भी अपना घर निर्माण कराएं तो वास्तु के अनुसार ही घर का निर्माण कराएं। तो आइए आप भी जानें वास्तु शास्त्र के अनुसार भवन निर्माण के संबंध में कुछ जरुरी बातें।

वास्तु शास्त्र के इन उपायों को अपनाएं, आप रहेंगे खुशहाल

वास्तु शास्त्र के अनुसार आप अपना घर बनाते समय वास्तु के कुछ टिप्स यानि के आप वास्तु शास्त्र के अनुसार अपना घर बनाते हैं तो आपका जीवन खुशहाल रहता है। और ऐसा माना जाता है कि अगर आपके घर में किसी भी कारण से वास्तु दोष उत्पन्न हो गया है तो आपके जीवन में कठिनाईयों का बसेरा हो जाता है और आपका जीवन बर्बाद हो जाता है। इसलिए आप जब भी अपना घर निर्माण कराएं तो वास्तु के अनुसार ही घर का निर्माण कराएं। तो आइए आप भी जानें वास्तु शास्त्र के अनुसार भवन निर्माण के संबंध में कुछ जरुरी बातें।

आप जब भी अपने घर का निर्माण कार्य प्रारंभ करें तो ऊंचे भवनों से घिरी हुई भूमि पर अपना कम ऊंचाई का मकान ना बनाएं। भूमि में दबे हुए मकान में निवास करने वाले व्यक्ति भी जीवन भर परेशानियों में दबा हुआ रहता है, और ऐसा व्यक्ति कर्ज में डूबा रहता है।

अगर आपको अपने मकान में भूमिगत पानी का टैंक बनाना है तो आप अपने घर के उत्तर-पूर्व भाग में ही पानी का टैंक बनाएं। इस प्रकार से पानी का टैंक बनाने से आपके जीवन में आर्थिक तरक्की बनी रहेगी। और आप कभी कर्ज में नहीं डूबेंगे।

आप जब भी अपना घर बनाएं तो आपके घर का ढलान हमेशा उत्तर दिशा की ओर से रहना चाहिए। इससे आपके घर की संपत्ति में वृद्धि होती रहेगी। आपके घर से पानी का बहाव भी उत्तर दिशा की ओर नहीं रहना चाहिए। इससे आपको आर्थिक तंगी से निजात मिलेगी।

घर में जो आपका शयनकक्ष (Bedroom) होता है, उसमें पूर्व और उत्तर दिशा की ओर कुछ भी भारी सामान कभी भी नहीं रखें। और ना ही इन दोनों दीवारों पर कोई कलेंडर अथवा दीवार घड़ी ही लगाएं। इन दोनों दीवारों को छोड़कर आप किसी भी दीवार पर दीवार घड़ी अथवा कलेंडर टांग सकते हैं। लेकिन पर्व-उत्तर दिशा में कोई भारी वस्तु रखें और ना ही कुछ वस्तुएं टांगें।

घरों में अकसर छत पर जाने के लिए हम सीढ़ियों का प्रयोग करते हैं, ध्यान रखें कि सीढ़ी कभी भी आप पूर्व और उत्तर दिशा में नहीं बनवाएं। सीढ़ी हमेशा घर के दक्षिण-पश्चिम दिशा में ही बनाएं। घर की पूर्व या उत्तर दिशा में सीढ़ी बनाने से धन के साधन खत्म हो जाते हैं।

कर्ज से मुक्ति पाने के लिए आप अपने घर के कमरों के दरवाजे पूर्व या उत्तर दिशा की ओर ही लगवाएं। यानि आपके घर के सभी प्रवेश द्वार पूर्व या उत्तर दिशा की ओर ही होने चाहिए। ऐसा होने से आपको कर्ज से मुक्ति मिलती है।

घर बनाते समय मुख्य प्रवेश द्वार के पास एक छोटा प्रवेश द्वार जरुर बनाएं। इससे आपके घर का लुक भी बेहतर रहता है और आपको कर्ज आदि परेशानियों से मुक्ति मिलती है।

कर्ज से मुक्ति पाने के लिए कमरों में उत्तर या पूर्व दिशा की ओर एक खिड़की जरूर लगवाएं। और उस खिड़की को अधिक से अधिक खोलकर रखें। ऐसा करने से आपके घर में आय के स्त्रोत बनेंगे। और आपको आर्थिक तंगी से निजात मिलेगी। ध्यान रहे कि उत्तर या पूर्व दिशा की ओर मकान में खिड़कियां जरुर होनी चाहिए।

अपने घर को कभी भी लाल रंग से ना रंगवाएं। लाल रंग से घर को रंगवाने से घर के ऊपर बुरा प्रभाव पड़ता है। और आप कर्ज में डूब जाते हैं।