वाहन चालकों के लिए बड़ी राहत, अब इस तारीख तक फास्टैग लगवाने की छूट

 सरकार द्वारा वाहन पर फास्टैग की अनिवार्यता को लागू करने के फैसले के बाद वाहन मालिकों में अफरा-तफरी मच गई है। फास्टैग की अनिवार्यता 1 दिसंबर से लागू होने वाली थी, जिसे अब बढ़ा 15 दिसंबर कर दिया गया। जिससे वाहन चालक व मालिकों के लिए राहत रहेगी। वे इस समय में आसानी से वाहनों पर फास्टैग लगवा सकेंगे। गौरतलब है कि फास्टैग की अनिवार्यता लागू होने के बाद टोल प्लाजों पर लोगों की काफी भीड़ बढ़ गई, जिसे ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने यह छूट प्रदान की है।

टोल प्लाजा क्रॉस करने के लिए गाडी पर फास्टैग स्टीकर लगा होना अनिवार्य हो जायेगा। ऐसे में जैसे जैसे दिन नजदीक आ रहे हैं, टोल्स पर लोगों की भीड़ देखने को मिल रही है। लोगों का कहना है कि फास्टैग ठीक है, इससे वक्त की बचत होगी। लेकिन एक समस्या ये है कि जिन लोगों को डिजिटल पेमेंट के बारे में जानकारी नहीं है उन्हें दिक्कत होगी।

फास्टैग लगवाने के लिए गाड़ी के मालिक की आरसी पैन कार्ड, एक फोटो और आधार कार्ड भी लिया जा रहा है। एक गाड़ी पर लगे फास्टैग की अवधि 5 साल बताई जा रही है। जहां पर इसको लेकर लोगों ने खुशी जाहिर की वहीं कुछ लोगों ने इसके विरुद्ध अपनी आवाज बुलंद की है। लोगों का कहना है किथा कि पहले भी हमारे टोल के पास बने हुए हैं उनका क्या होगा। जिस तरीके का यह आदेश पारित किया गया है यह हिटलर है आदेश है।

नेशनल हाइवे ऑफ इंडिया अथॉर्टी रोहतक क्षेत्रीय ईकाई के प्रोजेक्ट ऑफिसर वीके शर्मा ने बताया कि भारत सरकार द्वारा फास्ट टैग की सुविधा को चालू किया है। वाहनों के ज्यादा होने के कारण भारत सरकार ने फ़ास्टैग सुविधा देने से वह बिना लाइन में खड़ा हुए बैगर वहां से गुजर सकता है। सभी सरकारी विभागों के अधिकारीयों के वाहन को सूचित कर दिया है जल्द से जल्द फास्टैग बनवा लें ताकि कोई असुविधा ना हो।

उन्होंने बताया कि इससे विवादों से भी बचा जा सकता है। इससे यह आसानी होगी कि जैसे वाहन टोल पर पहुंचेगा उसका टैग स्कैन कर पैसा काट लिया जाएगा। यह आम आदमियों की सुविधा के लिए शुरू की है। अभी कई बैंको में भी फास्टैग देने की अनुमति दी हुई है, वहां से भी फास्ट टैग ले सकते हैं।