शाहिद अफरीदी ने बताया, कैसे 2014 में आर अश्विन को कन्फ्यूज कर भारत को हराया था

shahid afridi celebrating after win over team india photo-ht
एशियाई क्रिकेट परिषद ने गुरुवार को इस बात की घोषणा की कि इस साल सितंबर महीने में श्रीलंका में होने वाले एशिया कप टूर्नामेंट को कोरोना वायरस की वजह से जून 2021 तक के लिए स्थगित कर दिया है। एशिया कप टूर्नामेंट वो टूर्नामेंट है जहां भारत ने इसमें बाकी किसी अन्य देश के मुकाबले सबसे ज्यादा सफलता हासिल की है। यह इसलिए नहीं है कि भारत ने पिछले दो टूर्नामेंट जीते हैं। अगर ऑवरऑल टूर्नामेंट की बात करें तो भारत सबसे सफल देश है। भारत ने सात बार यह खिताब अपने नाम किया है। भारत के बाद श्रीलंका है जिसने पांच बार खिताब जीतने में कामयाबी हासिल की है। इस टूर्नामेंट में भारत और पाकिस्तान के बीच कुछ रोमांचक मैच देखने को मिले हैं। ऐसा ही एक मैच 2014 में हुआ था जब टीम इंडिया ने पाकिस्तान को आखिरी ओवर में पाकिस्तान को धूल चटाई थी। इसको लेकर शाहिद अफरीदी ने खुलासा किया है कि वो अश्विन को चकमा देने में सफल हो गए थे।इस टूर्नामेंट में भारत की बागडोर विराट कोहली संभाल रहे थे और नियमित कप्तान महेंद्र सिंह धोनी चोट की वजह से खेल नहीं रहे थे। भारत ने टूर्नामेंट में अच्छी शुरुआत करते हुए बांग्लादेश को हराया था लेकिन टीम को श्रीलंका के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था। इस वजह से फाइनल में अपनी जगह बनाने के लिए भारत को पाकिस्तान को हराना जरूरी हो गया था। 
ढाका में खेले गए इस मैच में पाकिस्तानी गेंदबाजों ने शानदार बॉलिंग करते हुए भारत को 245-8 के स्कोर पर रोक दिया था। इसके जवाब में पाकिस्तान के मोहम्मद हफीज और शोएब मकसूद ने शानदार साझेदारी करते हुए मैच को भारत से दूर करने की कोशिश की। लेकिन दोनों के जल्दी आउट हो जाने से मैच में जान आ गई। यह मैच बाद में काफी रोमांचक हो गया था क्योंकि पाकिस्तान को आखिरी दो ओवरों में 13 रनों की जरूरत थी और क्रीज पर धुआंधार बल्लेबाज शाहिद अफरीदी बल्लेबाजी कर रहे थे। भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने सेकेंड लास्ट ओवर में सिर्फ़ तीन रन दिए और दो विकेट भी लिए। अब पाकिस्तान को आख़िरी ओवर में जीत के लिए 10 रन चाहिए थे। इसी ओवर में आर अश्विन ने गेंद संभाली थी। उन्होंने इस ओवर में विकेट भी लिया, लेकिन शाहिद अफ़रीदी ने दो छक्के लगाकर पाकिस्तान को जीत दिला दी थी।अफरीदी ने बताया कि मेरे साथ सईद अजमल बल्लेबाजी कर रहे थे। मैंने उनसे कहा कि वे गेंद पर बल्ला लगाएं और सिंगल लें। मैंने उससे कहा कि वह स्वीप शॉट के लिए न जाएं, लेकिन उसने खेला और अपना विकेट खो दिया। उन्होंने आगे बताया कि अश्विन के खिलाफ सभी सोच रहे थे कि मैं लेग साइड पर खेलने जाऊंगा, लेकिन मैं उसे कन्फ्यूज करना चाहता था ताकि वह सोचें कि मैं लेग साइड पर मारने जा रहा हूं। इसके पीछे का विचार था कि ऑफ स्पिनर को अपनी ऑफ स्पिन गेंदबाजी न करने के लिए मजबूर किया जाए। और अश्विन ने ठीक वैसा ही किया। उन्होंने लेग-स्पिन गेंदबाजी की। मैंने इसे छक्के के लिए एक्स्ट्रा कवर क्षेत्र पर मारा। अगली डिलिवरी एक मुश्किल थी, मुझे बीच में नहीं मिली। मैं दो दिमागों में था, मैं सोच रहा था कि यह बाउंड्री के पार जाएगी या नहीं। लेकिन आखिर में गेंद फील्डर के ऊपर से छक्के के लिए रवाना हुई और हम जीत गए।