सचिन तेंदुलकर की वो पारी जिसने पूरी क्रिकेट दुनिया को रुला दिया था, जानकर होगा आश्चर्य

5 नवंबर सन 2009: राजीव गांधी स्टेडियम, हैदराबाद।
भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया:
भारतीय टीम 351 के विशाल लक्ष्य का पीछा कर रही थी। उस समय भारतीय टीम ने कभी भी 350+ के लक्ष्य का पीछा नहीं किया था। हालांकि, भारतीय टीम के मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के कुछ अलग विचार थे। चार बल्लेबाजों को छोड़कर, जिसमें भारतीय टीम विस्फोटक बल्लेबाज सुरेश रैना की 59 रनों की पारी शामिल थी, और हर भारतीय टीम के खिलाड़ी के पास इकाई का स्कोर था और भारतीय टीम के मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ऐसे थे, जिसने एक बार फिर अपने व्यापक कंधों पर राष्ट्र की उम्मीदों को संभाला था।
351 रनों का पीछा करते हुए उन्होंने 141 गेंदों पर 175 रन बनाये थे। आखिरकार 48 वें ओवर में भारतीय टीम के मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर आउट हो गए थे, भारतीय टीम ने कुल 49.4 ओवरों में 347 रन पर आल आउट हो गयी थी, जिससे दर्शक बिल्कुल आश्चर्य चकित हो गए थे।जरा सोचिए स्टेडियम में 30,000 हजार लोगो की भीड़ थी, और बिल्कुल पूरी तरह से सन्नाटा छाया हुआ था। वह भारतीय टीम के मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर की शक्ति थी। उस दिन भारतीय टीम जीतने में नाकाम रहे लेकिन फिर भी मैन ऑफ द मैच पुरस्कार भारतीय टीम के मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर को ही मिला था।उस मैच के बाद, भारतीय टीम के मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने कहा था कि वह भारतीय जीत के लिए अपने 175 रन को “खुशी से भूल जाएंगे” । भारतीय टीम के मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर राष्ट्र के प्रति अपना समर्पण दिखाया था।