साइना नेहवाल के हसबैंड भी हैं खिलाड़ी, जानें कैसे हुई दोनों की मुलाकात

भारत की टॉप महिला बैडमिंटन खिलाड़ियों में से एक हैं। पूर्व वर्ल्ड नंबर 1 बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल 24 से अधिक इंटरनेशनल खिताब जीत चुकी है, जिसमें ग्यारह सुपरसीरीज खिताब शामिल हैं। नेहवाल ने भारत के लिए बैडमिंटन में कई मील के पत्थर हासिल किए हैं। वह ओलंपिक पदक जीतने वाली पहली भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। साइना नेहवाल बीडब्ल्यूएफ विश्व जूनियर चैंपियनशिप जीतने वाली और बीडब्ल्यूएफ विश्व चैंपियनशिप के फाइनल तक पहुंचने वाली एकमात्र भारतीय खिलाड़ी है। साइना नेहवाल ने बैडमिंटन खिलाड़ी पारुपल्ली कश्यप (Parupalli Kashyap) से शादी की है। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको भारतीय बैडमिंटन स्टार साइना नेहवाल के हसबैंड (Saina Nehwal Husband Parupalli Kashyap) के बारे में बताने जा रहे हैं।

साइना नेहवाल 14 दिसंबर 2018 को एक निजी समारोह में साथी बैडमिंटन खिलाड़ी पारुपल्ली कश्यप के साथ शादी के बंधन में बंधे। साइना और पारुपल्ली कश्यप की मुलाकत ट्रेनिंग के दौरान हुई थी। साइना नेहवाल ने अपनी लव स्टोरी के बारे में खुलासा करते हुए एक इंटरव्यू में बताया कि वह साल 2000 में पहली बार 10 साल की उम्र में कश्यप से मिली थीं और 2010 के दौरान उन्हें पहली बार लगा था कि कश्यप वह शख्स हैं जिन्हें वह अपना जीवनसाथी बना सकती हैं।

साइना ने कहा कि मैं कश्यप से पहली बार 2000 में मिली थी। हम हैदराबाद में शिविर में थे। हम अभ्यास कर रहे थे और ज्यादा बात नहीं करना चाहते थे क्योंकि मेरा अलग ग्रुप था और उनका अलग। एशियाई खेलों के दौरान कश्यप चोटिल थे लेकिन वह मुझे हारते हुए नहीं देख सकते थे। उन्हें लगा था कि लय बदल सकती है और मैच के परिणाम भी।

साइना ने आगे बताया कि मैंने उन्हें (कश्यप) चोटिल होने के बाद भी स्टेडियम में आते देखा। उन्हें पीठ में चोट लगी थी और छह सप्ताह तक आराम करना था। उन्होंने मुझसे कहा कि मैं तुम्हें इस तरह से देखूं इससे अच्छा है कि मैं यहां आकर तुम्हारी मदद करूं। मैंने कहा कि एक पुरुष खिलाड़ी मेरी मदद करे, तो यह अच्छा है। वह दो सप्ताह बहुत अलग थे। मैंने कभी किसी को अपने ऊपर इस तरह से चिल्लाते नहीं देखा।

वहीँ दूसरी ओर कश्यप ने अपने रिश्ते के बारे खुलासा करते हुए एक इंटरव्यू में कहा कि कि वे हर दिन प्रशिक्षण में एक-दूसरे से मिलते थे और यहीं से दोनों के बीच प्यार की शुरुआत हुई। कश्यप ने कहा कि हम ट्रेनिंग में हर दिन एक दूसरे से मिलते थे, धीरे-धीरे हम भावनात्मक रूप से जुड़ गए।

साइना नेहवाल के हसबैंड पारुपल्ली कश्यप हैदराबाद के रहने वाले हैं और वह बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। साइना नेहवाल और पारुपल्ली कश्यप दोनों अर्जुन अवार्ड जीत चुके हैं। पारुपल्ली कश्यप 2012 लंदन ओलंपिक में पुरुष एकल क्वार्टर फाइनल में पहुंचने वाले पहले भारतीय बनकर इतिहास रचा था और साइना ने कश्यप की इस उपलब्धि पर उनकी सराहना की थी। कश्यप 2014 राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता भी हैं। 2017 में जब पारुपल्ली कश्यप गंभीर रूप से घायल हो गए थे, तो वह साइना ही थी जिसने उसे ठीक होने में मदद की।

2014 ग्लासगो कॉमनवेल्थ गेम्स में कश्यप ने पुरुष एकल में स्वर्ण पदक जीता। कश्यप 2018 में ऑस्ट्रेलियन ओपन का ख़िताब भी जीत चुके हैं। पारुपल्ली कश्यप वर्तमान में भारत के पुरुष एकल में शीर्ष क्रम के बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। कश्यप ने महज 11 साल की उम्र में बैडमिंटन खेलना शुरू किया था लेकिन 2005 से राष्ट्रीय स्तर पर और 2006 से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपने प्रोफेशनल करियर की शुरुआत की।