हैदराबाद रेप आरोपियों की कुंडली! दरिंदों ने डॉक्टर को ऐसे बनाया था हवस का शिकार

पुलिस के मुताबिक हैदराबाद केस की जांच के दौरान जो खुलासे हुए हैं, उससे यही लग रहा है कि शराब के नशे में धुत्त आरोपियों ने खौफनाक वारदात को ऐसे अंजाम दिया मानो कुछ हुआ ही ना हो। पुलिस की गिरफ्त में आए चारों आरोपियों को 14 दिन की रिमांड पर भेज दिया गया है। मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलेगी।

हैदराबाद: यहां हुए महिला डॉक्टर से हैवानियत के खिलाफ देशभर में लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है, जगह जगह प्रदर्शन हो रहे हैं। इधर पूरी घटना की जब पुलिस ने तहकीकात की तो कई खुलासे हुए। पुलिस ने पूरी कुंडली खंगाल ली है,तो आइए आपको बताते हैं कि दरिंदों ने कैसे इस घटना को अंजाम दिया…

चारों आरोपियों की उम्र 18 से 26 साल

पुलिस के मुताबिक 27 नवंबर की रात को महिला डॉक्टर को ट्रक ड्राइवर और उसके साथियों ने अगवा किया। आरोपी पीड़िता को सुनसान जगह पर ले गए और उसे जबरन शराब पिलाई और गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया। एक आरोपी ने मुंह और नाक दबाकर पीड़िता की जान ली। इसके बाद वहां से 27 किलोमीटर दूर ले जाकर पेट्रोल डालकर उसका शव जला दिया। शव के पास ही पीड़िता का फोन, घड़ी सब छिपा दिया।  चारों आरोपी बचपन के दोस्त हैं। आरोपी मोहम्मद आरिफ ट्रक ड्राइवर है, बाकी तीनों क्लीनर हैं। आरोपियों में आरिफ (26 साल) शिवा (20 साल) नवीन कुमार (20 साल) चेन्ना केशवल्लु (21 साल) है|

आरोपियों को 14 दिन की रिमांड पर भेज दिया गया 

पुलिस के मुताबिक हैदराबाद केस की जांच के दौरान जो खुलासे हुए हैं, उससे यही लग रहा है कि शराब के नशे में धुत्त आरोपियों ने खौफनाक वारदात को ऐसे अंजाम दिया मानो कुछ हुआ ही ना हो। पुलिस की गिरफ्त में आए चारों आरोपियों को 14 दिन की रिमांड पर भेज दिया गया है। मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलेगी।

डॉक्टर से हैवानियत का गुस्सा और दर्द हर जगह देखने को मिल रहा है लोग ऑन द स्पॉट आरोपियों की फांसी की मांग कर रहे हैं। लेकिन सवाल ये है कि आखिर ऐसे मामलों में कुछ ही समय के लिए लोग न्याय की मांग क्यों करते हैं फिर सबकुछ ठंडा पड़ जाता है।