२००० के नोट को लेकर बैंकों ने किया नया फैसला, यह रही वजह

२००० के नोट को लेकर बैंकों ने किया नया फैसला, यह रही वजह
 2000 के गुलाबी नोट को लेकर बैंकों ने नया फैसला किया है। बैंक आफ इंडिया, पीएनबी सहित कई बड़े बैंकों ने एटीएम से 2000 के कैसेट हटा दिए हैं। ऐसा इसलिए किया गया है, क्योंकि ये नोट अब एटीएम के लायक नहीं रहे। नोटों की छंटाई के लिए बैंकों में लगीं सुपर सॉर्टिंग मशीनों ने 2000 के नोटों को एटीएम के लायक नहीं माना है। इसके अलावा 100 नोटों की स्थिति भी सही नहीं है। इन नोटों की हर गड्डी में से महज 8-10 नोट ही एटीएम में इस्तेमाल लायक हैं। इस वजह से खराब हुए नोट
देश की अर्थव्यवस्था में बड़ा बदलाव लाने वाले नोटबंदी के फैसले के बाद 2000 के नोट आरबीआई ने छापे थे। 2016 में सामने आए इन नोटों की मई २०१७ से छपाई बंद कर दी गई। इसके बाद से लेकर अब तक बाजार से लेकर थोक लेनदेन में भी 2000 के नोट सबसे ज्यादा चलन में आए और इस वजह से उनकी स्थिति ज्यादा खराब हो गई। जिसके चलते ये नोट अब एटीएम में लगाने लायक नहीं बचे। इस तरह छांटे जाते नोट
बैंकों में आई सुपर सॉर्टिंग मशीनें नोटों की छंटाई चार श्रेणियों में करती हैं। पहली श्रेणी में ‘एटीएम फिटेड’ अलग किए जाते हैं। ये नोट सबसे अच्छी स्थिति में होते हैं। दूसरी श्रेणी में शाखाओं के इस्तेमाल योग्य नोट मशीन छांटती है। इसमें थोड़े गंदे नोट होते हैं, जिन्हें एटीएम के सेंसर नहीं पकड़ पाते लेकिन चलन योग्य होते हैं। तीसरी श्रेणी में कटे-फटे नोट आते हैं, जो किसी भी रूप में चलन में नहीं आ सकते। चौथी श्रेणी में मशीन नकली नोट अलग करती है। नहीं मिल रहे एटीएम लायक नोट
बैंक आफ इंडिया के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक सौ नोटों की छंटाई में बमुश्किल आठ से दस नोट ही एटीएम के लायक मिल रहे हैं। एटीएम फिटेड नोट की संख्या बेहद सीमित है। बैंकों से बांटने वाले 2000 के नोटों की संख्या भी 50 प्रतिशत से ज्यादा नहीं है। इनमें कटे-फटे-गले नोट ज्यादा हैं। सौ में 25 नोट इसी श्रेणी के हैं। अभी भी 100 में से 15 नोट नकली पाए जा रहे हैं। यही वजह है कि एटीएम से 2000 के नोटों की कैसेट ज्यादातर बैंक हटा रहे हैं। 2000 के कैसेट की जगह 200 और 500 के नोटों को भरा जा रहा है। इन नोटों के हिसाब से एटीएम में व्यापक बदलाव किए जा रहे हैं।