5 साल में रकम दोगुनी करने का ला’लच दे करोड़ों रुपये ले उड़ी फ्रॉ’ड कंपनी, नेटवर्किंग के नाम पर हुआ फर्जीवाड़ा

नेटवर्किंग के नाम पर बड़ा फ’र्जीवाड़ा सामने आया है. एक नेटवर्किंग कंपनी ने तीन अलग नामों से पूर्णिया  और आसपास के जिलों के हजारों लोगों से करोड़ों रुपये वसूलकर फ’रार हो गया है. पाई-पाई जमाकर इस कंपनी में जमा करनेवाले गरीब जमाकर्ता आज न्याय के लिए भटक रहे हैं. वहीं कंपनी के एजेंट और जमाकर्ताओं ने एसपी से लेकर डीजीपी औऱ मुख्यमंत्री को आवेदन देकर गुहार लगाई है.

बीएनजी ग्लोबल इंडिया लिमिटेड कंपनी पर तीन अलग-अलग नामों से पूर्णिया और आसपास के इलाके के हजारों लोगों से करोंड़ों रुपये की ठ’गी कर फरार होने का आ’रोप लगा है. लोगों ने इस बाबत एसपी से लेकर डीजीपी, मुख्यमंत्री, और उपमुख्यमंत्री को सबूत के साथ आवेदन देकर उनकी जमा पूंजी वापस दिलाने की मांग की है.

बिहार: 5 साल में रकम दोगुनी करने का लालच दे करोड़ों रुपये ले उड़ी फ्रॉड कंपनी, नेटवर्किंग के नाम पर फर्जीवाड़ा

जमाकर्ता मुकुल चौधरी का कहना है कि यह कंपनी पूर्णिया में 2011 से काम कर रही थी. पहले बीएन गोल्ड इस्टेट एण्ड एलाइट लिमिटेड, फिर बीएनजी गोल्ड इंडिया लिमिटेड और अंत में किसान उर्जा एग्रो प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड के नाम पर इस कंपनी ने हजारों लोगों को नेटवर्किंग बनाकर करोड़ों रुपये ठग लिये हैं.  इस कंपनी ने पांच साल में रुपया दोगुना, छः साल में ढ़ाई गुना औऱ नौ साल में चार गुणा रुपया करने का सब्जबाग दिखाकर लोगों से रुपया जमा करवाया. जब भुगतान का समय आया तो कंपनी सारा रुपया समेटकर फ’रार हो गया.

वहीं, महिला मीरा देवी ने कहा कि कंपनी के प्रोपराइटर संजीव जायसवाल रुपौली के छर्रापट्टी निवासी है. उसने ही उनलोगों को इस कंपनी में जोड़ा. जमीन और संपत्ति का कागज दिखाकर लोगों से करोड़ों रुपये जमा करवाया. अब कंपनी फरार हो गया है तो संजीव जयसवाल खुद  बिहार छोड़कर हरियाणा में  जा बसा है. ऐसे में उनलोगों के सामने आत्महत्या के सिवाय कोई रास्ता नहीं बचा है.

इधर कंपनी के एजेंट नौगछिया निवासी मनोज पासवान ने कंपनी का बाण्ड पेपर दिखाते हुये कहा कि उसने भी अपना और कई लोगों का करीब 14 लाख रुपया इस कंपनी में जमा करवाया.संजीव जायसवाल ने कहा कि इसमें पांच साल में ही रुपया दोगुना हो जायेगा.  अब अपना जमापूंजी तो चला ही गया लोग भी दिन रात अपना पैसा मांग रहे. संजीव जायसवाल ने उनलोगों के पैसे से कटिहार के पवई में 17 एकड़ जमीन  जो कंपनी के नाम से एग्रीमेंट  हुआ था  उस जमीन को अपने और अपनी पत्नी के नाम  पर खरीदा था. अभी उस जमीन को वह चुपचाप बेच रहा है. ऐसे में अगर प्रशासन द्वारा कार्रवाई नहीं की गई तो वे लोग आत्मह’त्या करने के लिये मजबूर हो जायेंगे.

उन्होंने कहा कि संजीव जायसवाल ने उन सबों को झांसा देकर अब लुधियाना भाग गया है. इस बाबत जब हमने संजीव जायसवाल से उनके मोबाइल पर बात की तो उसने कहा कि इस कंपनी का प्रोपराइटर जीएस संधू है. वह भी इस कंपनी के वर्कर थे. उसने खुद कंपनी पर पंजाब के हाईकोर्ट में केस किया है . जानकारी के अनुसार इस कंपनी द्वारा कई राज्यों में ठ’गी की गई है. कई जगह लोगों ने इन पर केस भी किया है.